close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंदौरः नहीं मिले रसोई के पैसे तो शिकायत लेकर थाने पहुंचा हलवाई, पुलिस ने नहीं सुनी तो गाड़ियों में लगा दी आग

 हलवाई अपनी शिकायत लेकर थाने पहुंचा, लेकिन पुलिस ने भी हलवाई की नहीं सुनी. जिसके बाद गुस्से में दिलीप सैनी (हलवाई) को गुस्सा आ गया और उसने फरियादी की तीन गाड़ियों में आग लगा दी

इंदौरः नहीं मिले रसोई के पैसे तो शिकायत लेकर थाने पहुंचा हलवाई, पुलिस ने नहीं सुनी तो गाड़ियों में लगा दी आग
फाइल फोटो

इंदौरः मध्य प्रदेश के इंदौर के बाणगंगा पुलिस ने एक ऐसे हलवाई हो पकड़ा है जिसने रसोई के पैसे नहीं देने पर गाड़ियों में आग लगा दी और फरार हो गया, लेकिन एक बार फिर इस पूरे घटनाक्रम पर पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न चिन्ह खड़े हो रहे हैं. क्योंकि आरोपी पेसो के लेनदेन की शिकायत लेकर एरोड्रम थाने गया था, लेकिन एरोड्रम पुलिस ने शिकायत पर कार्रवाई नहीं कि जिसके कारण हलवाई को इस तरह की वारदात को अंजाम देना पड़ा. फिलाहल बाणगंगा पुलिस ने आरोपी को गरफ्तार कर जांच शुरू कर दी है. घटना 16 मई की बताई जा रही है.

बताया जा रहा है कि इंदौर के गोविंद नगर में रहने वाले फरियादी के यहां लड़की की शादी थी. जिसकी रसोई दिलीप सैनी नामक हलवाई ने बनाई थी. हलवाई से रसोई बनवाने के बाद लड़की पक्ष के लोगों ने रसोई के दस हजार आज-कल में देने का वादा किया था, लेकिन नहीं दिए. जिसके बाद हलवाई अपनी शिकायत लेकर थाने पहुंचा, लेकिन पुलिस ने भी हलवाई की नहीं सुनी. जिसके बाद गुस्से में दिलीप सैनी (हलवाई) को गुस्सा आ गया और उसने फरियादी की तीन गाड़ियों में आग लगा दी और फरार हो गया. 

दिग्विजय सिंह के लिए 5 क्विंटल मिर्ची से किया था यज्ञ, हारने पर निरंजनी अखाड़े से बर्खास्त किए गए बाबा

पुलिस ने इस पूरे मामले में आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच की और आरोपी दिलीप सैनी को गिफ्तार कर क्षेत्र में उसका जुलूस भी निकाला. वहीं बताया जा रहा है कि हलवाई दिलीप ने पैसों के लेन-देन की शिकायत एरोड्रम थाना प्रभारी अशोक पाटीदार को भी की थी, लेकिन थाना प्रभारी के कार्रवाई नहीं करने के कारण दिलीप ने इस तरह की वारदात को अंजाम दिया. फिलाहल घटना के बाद से आरोपी फरार था वहीं पकड़ में आने के बाद आरोपी ने रसोई के पैसों को लेकर इस तरह की वारदात को अंजाम देने की बात कबूली है. 

सूरत अग्निकांड: 20 छात्रों की मौत, 20 घायल, FIR दर्ज, कोचिंग सेंटर संचालक गिरफ्तार

बता दें इंदौर पुलिस की कार्यप्रणाली पर हमेशा ही प्रश्नचिन्ह खड़े होते रहे हैं और एक बार फिर इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठने लगे हैं. क्योंकि अगर एरोड्रम पुलिस शिकायत पर कार्रवाई कर देती तो इस तरह की घटना ही नहीं होती, लेकिन एरोड्रम पुलिस ने शिकायत पर किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं कि जिसके बाद इस तरह की वारदात सामने आई है.