MP News: मध्य प्रदेश के इस जिले में बड़ा घोटाला, 11 हजार क्विंटल धान हुई गायब
topStories1rajasthan1458590

MP News: मध्य प्रदेश के इस जिले में बड़ा घोटाला, 11 हजार क्विंटल धान हुई गायब

MP News: मध्य प्रदेश में एक बड़ा घोटाला सामने आया है. जहां किसी को भनक तक नहीं लगी और 11 हजार क्विंटल धान गयाब कर दी गई. यह धान किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी गई थी. मामला सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है. 

MP News: मध्य प्रदेश के इस जिले में बड़ा घोटाला, 11 हजार क्विंटल धान हुई गायब

MP News: पुष्पेंद्र वैद्य/शहडोल।  मध्य प्रदेश के शहडोल जिले में किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी गई धान का बड़ा घोटाला सामने आया है.  बताया जा रहा है कि शहडोल में 11 हजार क्विंटल धान गायब हो गई. ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि एक ओर जहां प्रशासन किसानों की धान खरीदी के लिए जोर-शोर से युद्ध स्तर पर तैयारी में जुटा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ इस तरह का घोटाला सामने आया है. वहीं इस मामले में अब जिम्मेदारी अधिकारी कुछ भी कहने से बचते नजर आ रहे हैं. 

इस तरह हुआ खुलासा 
दरअसल, शहडोल जिले में किसानों से समर्थन मूल्य में खरीदे गए 11 हजार क्विंटल धान गायब होने का मामला सामने आने से हड़कंप मच गया है. बताया जा रहा है कि जब 11 हजार क्विटल धान गोदाम में जमा नहीं हुई तो पूरे मामले का खुलासा हुआ, धान स्कैम सामने आने के बाद संबंधित अधिकारी अब अपनी कमी को छिपाने के लिए समिति व संबंधित ठेकेदार से इसकी वसूली करने की बात कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं. 

करोड़ों में है धान की कीमत 
बता दें कि शहडोल जिले में बीते साल समर्थन मूल्य पर किसानों से धान की खरीदी की गई थी, खरीदी गए धान की मात्रा और गोदाम में जमा की गई मात्रा में 11 हजार क्विंटल का अंतर आया है. जिसकी कीमत 2 करोड़ 33 लाख के आस पास की बताई जा रही है. बड़ी मात्रा में धान गायब होने से एमपी स्टेट सिविल सप्लाई कारपोरेशन विभाग में भी हड़कंप मच गया है. अब नान विभाग सम्बंधित समिति व परिवहनकर्ता ठेकेदार से राशि वसूलने की बात कह रहा है. 

पिछले साल 1940 रुपए प्रति क्विंटल की दर से धान समर्थन मूल्य पर 14 लाख 6 हजार क्विंटल धान किसानों से समिति के माध्यम से खरीदा गया था, जिसका परिवहन शानू ट्रांसपोर्ट के माध्यम से किया गया था. जिसके बाद अब गोदाम में जमा 11 हजार क्विंटल धान कम पाया गया है. जिसकी कीमत 2 करोड़ रुपए से अधिक है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि बाकि का धान कहा गया. हालांकि अब इस मामले में प्रशासन क्या कार्रवाई करेगा यह देखने वाली बात होगी. 

ये भी पढ़ेंः MP के इस पर्यटन स्थल पर बसाया जा रहा आदिवासी गांव, पीएम मोदी कर सकते हैं उद्घाटन 

Trending news