शिवराज के मंत्री ने किया उमा भारती के शराबबंदी वाले बयान का समर्थन, कहा-सरकार और संगठन विचार करेगा

सीएम शिवराज ने मनरेगा और पीएम आवास योजना को लेकर अधिकारियों को सख्त हिदायत दी है. 

शिवराज के मंत्री ने किया उमा भारती के शराबबंदी वाले बयान का समर्थन, कहा-सरकार और संगठन विचार करेगा
भारत सिंह कुशवाहा, राज्य मंत्री, मध्य प्रदेश

ग्वालियरः मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम उमा भारती ने दो दिन पहले एमपी में शराबबंदी को लेकर बयान दिया था. उन्होंने कहा था कि मध्य प्रदेश में शराबबंदी होनी चाहिए इसके लिए 2022 से अभियान शुरू करेगी. उमा भारती के इस बयान को अब शिवराज सरकार के एक मंत्री का भी समर्थन मिला है.

मंत्री भारत सिंह कुशवाहा ने किया समर्थन 
उमा भारती के शराबबंदी की मांग को मध्य प्रदेश सरकार के उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह का साथ मिला है,  मंत्री भारत सिंह कुशवाह का कहना है कि ''उमा भारती जी पार्टी की वरिष्ठ नेता है यदि उन्होंने शराबबंदी को लेकर कोई सलाह दी है तो निश्चित तौर पर आने वाले समय में सरकार और संगठन उस पर विचार करेगा.''

सरकार भी अवैध शराब पर रोक लगा रही है
हालांकि मंत्री भारत सिंह कुशवाहा ने कहा कि ''सरकार तो अपने स्तर पर अवैध शराब बिक्री पर लगाम लगाने में लगी है. लेकिन लोगों को भी जागरूक होना पड़ेगा, भले ही गांव में अगर शराब बनती रहे लेकिन जब कोई उसे नहीं खरीदेगा तो वह बनाना भी बंद कर देंगे. हालांकि उन्होंने उमा भारती के डंडे के जोर पर शराबबंदी के बयान पर कहा उनके कहने का भाव कुछ और होगा मीडिया ने उसे अपने तरीके से चलाया है.''

उमा भारती ने अभियान चलाने की कही बात 
दरअसल, शराब बंदी के मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती फिर से मुखर हो गई हैं. इतना ही नहीं उन्होंने चेतावनी देते हुए खुद सड़कों पर उतरने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि 'वीडी शर्मा और शिवराज जी कहते हैं कि नशा जागरुकता से खत्म होगा लेकिन ये जागरुकता से नहीं सिर्फ सख्ती से खत्म होगा.' उमा भारती ने कहा कि 'हम शराबबंदी के लिए 14 जनवरी से अभियान चलाएंगे. सरकार और वीडी शर्मा जी हमारा साथ दें.' 

उमा भारती ने कहा कि 6 महीने में महिलाएं ये अभियान चलाएंगी और उन्हें ही जिला संयोजक बनाया जाएगा. उमा भारती ने कहा कि 14 जनवरी के बाद वह खुद इस अभियान का नेतृत्व करेंगी और सड़कों पर उतर जाएंगी. उमा भारती ने कहा कि मध्य प्रदेश में शराबबंदी होनी चाहिए और वह इस पर अडिग हैं. बता दें कि उमा भारती प्रदेश में शराबबंदी की मांग को लेकर पहले भी बयानबाजी कर चुकी हैं. बीती 8 मार्च से भी उन्होंने राज्य में शराब बंदी अभियान चलाने का ऐलान किया था. हालांकि बाद में सीएम शिवराज से मुलाकात के बाद उनके तेवर नरम पड़ गए थे. अब एक बार फिर से उन्होंने शराबबंदी का मुद्दा उठाकर सियासी पारा गरम कर दिया है.

ये भी पढ़ेंः ब्यूरोक्रेसी वाले बयान पर उमा भारती ने ट्वीट कर दी सफाई, कहा- मुझे रंज है कि ऐसी भाषा का प्रयोग किया

WATCH LIVE TV