ब्यूरोक्रेसी वाले बयान पर उमा भारती ने ट्वीट कर दी सफाई, कहा- मुझे रंज है कि ऐसी भाषा का प्रयोग किया

उमा भारती ने ट्वीट करते हुए अपने बयान पर सफाई दी है. 

ब्यूरोक्रेसी वाले बयान पर उमा भारती ने ट्वीट कर दी सफाई, कहा- मुझे रंज है कि ऐसी भाषा का प्रयोग किया
उमा भारती, पूर्व सीएम, मध्य प्रदेश

भोपालः ब्यूरोक्रेसी पर दिए गए विवादित बयान पर मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने प्रतिक्रिया जाहिर की है. उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए कहा कि ब्यूरोक्रसी को लेकर उन्होंने जो बयान दिया है वह ब्यूरोक्रसी के बचाव में ही दिया है. 

उमा भारती ने किया ट्वीट 
अपने बयान को लेकर उमा भारती ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ''परसों भोपाल में मेरे निवास पर पिछड़े वर्गों का एक प्रतिनिधि मण्डल मुझे मिला, यह मुलाकात औपचारिक नहीं थी, उस पूरी बातचीत का विडियो मीडिया में वायरल हुआ है, मैं मीडिया की आभारी हूं की उन्होंने मेरा पूरा ही विडियो दिखा दिया क्यूंकि मैं तो ब्यूरोक्रसी के बचाव में ही बोल रही थी. हम नेताओ में से कुछ सत्ता में बैठे निक्कमे नेता अपने निकम्मेपन से बचने के लिये ब्यूरोक्रसी की आड़ ले लेते हैं की हम तो बहुत अच्छे हैं लेकिन ब्यूरोक्रसी हमारे अच्छे काम नहीं होने देती, जबकी सच्चाई यह है की ईमानदार ब्यूरोक्रसी सत्ता में बैठे हुए मज़बूत, सच्चे एवं नेक इरादे वाले नेता का साथ देती हैं, यही मेरा अनुभव हैं'' 

उमा भारती ने अपने एक ट्वीट में लिखा कि ''मुझे रंज हैं की , मैंने असंयत भाषा का उपयोग किया जब की मेरे भाव अच्छे थे, मैंने आज से यह सबक सीखा की सीमित लोगों के बीच अनौपचारिक बातचीत में भी संयत भाषा का प्रयोग करना चाहिये.''

उमा भारती ने आज ब्यूरोक्रेसी पर दिया था बयान 
दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह ब्यूरोक्रेसी को लेकर कहती नजर आ रही है कि ''ब्यूरोक्रेसी कुछ नहीं होती. ब्यूरोक्रेसी चप्पल उठाने वाली होती है. हम पहले ही उनकी बात कर लेते हैं उनकी औकात क्या है फिर ब्यूरोक्रेसी फाइल बनाकर लाती है.''

उमा भारती के बयान का यह वीडियो जमकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. उमा भारती ने कहा कि ब्यूरोक्रेसी हमारी चप्पल उठाती है और उसके लिए हम लोग ही राजी हो जाते हैं. ब्यूरोक्रेसी फाइल बनाकर लाती है. उन्होंने कहा कि हमसे पूछिए 11 साल केंद्र में मंत्री रहे हैं, मुख्यमंत्री रहे हैं. उमा भारती ने कहा कि पहले हमसे बात होती है, डिस्कशन होता है. फिर फाइल प्रॉसेस होती है. मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने साथ ही ये भी कहा कि सब फालतू की बातें हैं. उनका यह बयान सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है. अपने इसी बयान पर उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए प्रतिक्रिया जाहिर की है. 

ये भी पढ़ेंः उमा भारती का विवादित बयान, ''ब्यूरोक्रेसी की औकात क्या जो नेताओं को घुमाए ये हमारी चप्पल उठाती है''

WATCH LIVE TV