MP युवा कांग्रेस इलेक्शन रिजल्ट: इस दिग्गज के बेटे को चुना गया अध्यक्ष

कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया को युवा कांग्रेस का नया प्रदेश अध्यक्ष चुना गया है. पढ़िए पूरी खबर...

MP युवा कांग्रेस इलेक्शन रिजल्ट: इस दिग्गज के बेटे को चुना गया अध्यक्ष
जीत के बाद कांग्रेस नेताओं के साथ विक्रांत भूरिया...

भोपाल: मध्य प्रदेश में सात साल बाद हुए युवा कांग्रेस चुनाव के नतीजे घोषित हो गए हैं. विक्रांत भूरिया को युवा कांग्रेस का नया प्रदेश अध्यक्ष चुना गया है. वे कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया के बेटे हैं. प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए कुल 9 उम्मीदवारों के बीच मुकबला हुआ था. संजय यादव, सत्येंद्र कुशवाह और विवेक त्रिपाठी को पीछे छोड़ते हुए विक्रांत भूरिया ने सबसे ज्यादा 40850 वोट हासिल किए हैं. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी संजय सिंह को 20420 वोट से हराया है. विक्रांत भूरिया के बाद संजय सिंह को सबसे अधिक 20430 वोट मिले, उन्हें वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाया गया है.

बीते 10,11 और 12 दिसंबर को चुनाव के लिए वोटिंग हुई थी. प्रदेश अध्यक्ष के अलावा इस चुनाव के जरिए जिला अध्यक्ष, जिला महामंत्री और विधानसभा प्रभारी भी बनाए गए हैं. कुल 116 में से 11 प्रदेश महामंत्री और 56 सचिव बनाए गए हैं.

ये भी पढ़ें: MP: 4 अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप, बीजेपी बोली कमलनाथ पर दर्ज हो FIR

2011 में हुई थी शुरूआत, ये तीसरा चुनाव
प्रदेश में युवा कांग्रेस के चुनाव की शुरूआत साल 2011 में हुई थी. सबसे पहले प्रियव्रत सिंह अध्यक्ष चुने गए थे, जबकि दूसरी बार कुणाल चौधरी को साल 2013 में अध्यक्ष चुना गया था. अब 7 साल बाद हुए चुनाव में आदिवासी नेता विक्रांत भूरिया को अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी दी गई है.

विपिन वानखेड़े ने वापस लिया था नाम
प्रदेश अध्यक्ष के लिए 9 उम्मीदवार मैदान में थे. लेकिन नामांकन 12 उम्मीदवारों ने भरा था. अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार विधायक विपिन वानखेड़े ने मतदान से ठीक एक दिन पहले नाम वापस ले लिया था. इससे पहले दो अन्य दावेदार हर्षित गुरु और अंकित डोली भी नाम वापस ले चुके थे. लिहाजा विक्रांत भूरिया प्रबल दावेदार माने जा रहे थे.
 
कौन हैं विक्रांत भूरिया
विक्रांत भूरिया को साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में हार मिल चुकी है. उन्हें पार्टी ने झाबुआ सीट से टिकट दिया था, लेकिन वे भाजपा के जीएस डामोर से हार गए थे. इसके बाद डामोर सांसद बन गए और जब ये सीट खाली हुई तो विक्रांत के पिता कांतिलाल भूरिया चुनाव जीत कर विधायक बने.

ये भी पढ़ें: Farmer Protest के बीच आज MP के किसानों को संबोधित करेंगे PM मोदी, मिलेगी 1600 करोड़ की राहत

ये भी पढ़ें: मध्यप्रदेश में आज से खुल रहे 10वीं और 12वीं के स्कूल, इन बातों का ख्याल रखना बेहद जरूरी

WATCH LIVE TV