close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

3 बच्चों के गले में अटका 5 रुपये का सिक्का, घरवालों के बीच मचा हाहाकार

फिलहाल, तीनों बच्चे स्वस्थ हैं और मालदा मेडिकल कॉलेज में उनका इलाज चल रहा है. बच्चों के सफल ऑपरेशन के बाद परिजनों ने राहत की सांस ली है. 

3 बच्चों के गले में अटका 5 रुपये का सिक्का, घरवालों के बीच मचा हाहाकार
तीनों घटना अलग-अलग जगह की बताई जा रही है.

मालदा: मालदा जिले में तीन बच्चों ने पांच रुपये के सिक्के निगल लिए जो सीधा उनकी सांस नली में जाकर अटक गया. आनन-फानन में परिजन बच्चों को मालदा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया, जहां ऑपरेशन के बाद बच्चों के गले से सिक्के निकाले. फिलहाल तीनों बच्चे स्वस्थ हैं और मालदा मेडिकल कॉलेज में उनका इलाज चल रहा है. बच्चों के सफल ऑपरेशन के बाद परिजनों ने राहत की सांस ली है. 

घटना अलग-अलग जगह की बताई जा रहा है. मेडिकल कॉलेज सूत्रों के मुताबिक, कलियाचौक थाना के अंतर्गत हजारिटोला ग्राम के रहने वाले मिंटू शेख के 6 साल के बच्चे नबाब बहादुर शेख एक 5 रुपये का सिक्का निगल लिया. वहीं, एक अन्य घटना में अंग्रेजबाजार थाना इलाके के बराक कॉलोनी इलाके में रहने वाले रंजीत सहा के 3 साल की बेटी आयुषी ने भी 5 रुपये का सिक्का निगल लिया. घटना के तुरंत बाद दोनों बच्चों को उनके परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने बिना काट-पीटकर सिक्कों को निकाला दिया. 

मेडिकल सूत्रों के मुताबिक, दोनों बच्चों का सफल ऑपरेशन के बाद एक ऐसी ही घटना फिर सामने आई. जहां, दक्षिण दिनाजपुर जिले के रहने वाले अमित भट के 4 साल के बेटे आकाश भट्ट ने 5 रुपये का सिक्का खेलते-खेलते निगल लिया. लेकिन, वो सिक्का उसकी सांस नाली से होकर पेट में चला गया, जिसे फिर डायलिसिस करके निकाला गया.

मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर ने बताया की इतने छोटे से बच्चे का ऑपरेशन करना ठीक नहीं था, इसीलिए उसको डायलिसिस के जरिये मलद्वार से निकाला गया. मंटू शेख और उनकी पत्नी रहीम बीबी ने बताया की रविवार श्याम को उनके बेटे नवाब बहादुर मुंह में सिक्का डालकर बागान में बेर उठाने गया था और लापरवाही के चलते वो सिक्का उसके गले की सांसनली में अटक गया और वो जोर-जोर से रोने लगा.

 

बच्चे की रोने की आवाज सुनकर, वो लोग वहां पहुंचे और तुरंत बच्चे को लेकर मालदा मेडिकल कॉलेज पहुंचे. जहां, बच्चे के पेट से सिक्का डायलिसिस कर निकाला गया. तीनों बच्चों को सफल ऑपरेशन के बाद परिजन खुश हैं और भगवान के साथ मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों का भी धन्यवाद अदा कर रहे हैं.