'पुलिस कमिश्नर के पास ऐसी क्या जानकारी है कि ममता उन्हें बचाने को बेकरार हैं'

तृणमूल सांसद और राज्य मंत्रियों कुणाल घोष, सृंजॉय बोस, सुदीप बंदोपाध्याय, तपस पाल और मदन मित्रा को चिटफंट मामले के संबंध में अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है.

'पुलिस कमिश्नर के पास ऐसी क्या जानकारी है कि ममता उन्हें बचाने को बेकरार हैं'
बनर्जी ने कोलकाता के धरमताला इलाके में रविवार रात को अपना धरना शुरू किया. (फाइल फोटो)

कोलकाता: केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की चिटफंड घोटाले के एक मामले में कोलकाता पुलिस प्रमुख से पूछताछ की कोशिश के विरोध में धरने पर बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से सवाल करते हुए केंद्रीय मंत्री व भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को पूछा कि वह किसे बचाना चाहती हैं, शीर्ष अधिकारी को या फिर खुद को. यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने कहा, "हम यह पूछना चाहते हैं कि ममता किसे बचाना चाहती हैं.

वे धरना क्यों दे रही हैं? वह पुलिस आयुक्त को बचाना चाहती हैं या खुद को? वे क्या छिपाने का प्रयास कर रही हैं." अपने मंत्रियों और पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ बनर्जी ने कोलकाता के धरमताला इलाके में रविवार रात को अपना धरना शुरू किया. समाजवादी पार्टी के उपाध्यक्ष किरणमय नंदा पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव के प्रतिनिधि के रूप में धरने में शामिल हुए.

जानिए कौन हैं कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार, जिनको बचाने के लिए धरने पर बैठीं ममता
राजीव कुमार, कोलकाता पुलिस आयुक्त.

जावड़ेकर ने कहा कि तृणमूल सांसद और राज्य मंत्रियों कुणाल घोष, सृंजॉय बोस, सुदीप बंदोपाध्याय, तपस पाल और मदन मित्रा को चिटफंट मामले के संबंध में अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है. जावड़ेकर ने कहा, "ममता ने तब तो कोई धरना या प्रदर्शन नहीं किया. उन्होंने अब ही क्यों धरना शुरू किया?

केंद्र सरकार के खिलाफ ममता बनर्जी धरने पर, CBI ऑफिस के बाहर CRPF तैनात

पुलिस आयुक्त के पास ऐसी क्या जानकारी है, जिसके कारण ममता उन्हें बचाने के लिए इतनी बेकरार हैं और अब सड़क पर बैठ गई हैं? लोग इन सवालों के जवाब चाहते हैं." उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र की हत्या का एक प्रयास है. 

इनपुट आईएएनएस से भी 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.