रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं, 'कोई भी शब्द देश के लोगों का गुस्सा शांत नहीं कर सकता'

निर्मला सीतारमण ने कहा कि इस हमले से रक्षा बलों का मनोबल बिल्कुल प्रभावित नहीं हुआ है. वे अपना काम करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं.

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण बोलीं, 'कोई भी शब्द देश के लोगों का गुस्सा शांत नहीं कर सकता'
फोटो सौजन्य: ANI

बेंगलुरु: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी. रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले ही सैन्य बलों को आगे की कार्रवाई के लिए, समय, स्थान और स्वरूप तय करने के लिए पूरी इजाजत दे दी है. उन्होंने कहा कि हम पूरे प्रयास कर रहे हैं कि भविष्य में पुलवामा आतंकी हमले जैसी कोई घटना न हो. उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कहूंगी कि हमारी सरकार इस हमले की कैसे प्रतिक्रिया देगी क्योंकि क्योंकि कोई भी शब्द देश के हर व्यक्ति के गुस्से और निराशा को शांत करने के लिए पर्याप्त नहीं है.

निर्मला सीतारमण ने इमरान खान की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुंबई हमले के बाद से न केवल हमारी सरकार ने बल्कि इससे पहले की सरकार ने भी पाकिस्तान को डोजियर और सबूत भेजे थे. पाकिस्तान ने उन पर क्या कार्रवाई की है. उन्होंने कहा कि भारत में कानून की उचित प्रक्रिया के बाद अदालतों से संपर्क किया गया और मुंबई हमलावरों को दंडित किया गया. पाकिस्तान के पास दिखाने के लिए कुछ नहीं है क्योंकि वहां की पहली अदालत ही अपना काम नहीं कर रही हैं. 

निर्मला सीतारमण ने कहा कि इस हमले से रक्षा बलों का मनोबल बिल्कुल प्रभावित नहीं हुआ है. वे अपना काम करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं. उन्होंने कहा कि भारत की आम जनता ने से मिली प्रतिक्रिया से उन्हें और अधिक प्रेरणा मिली है. इससे पहले दिल्ली के दौरे पर आए जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा था कि सुरक्षा बलों का अभियान पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादी समूहों और उनके सरगनों के खिलाफ है 'न कि कश्मीरियों' के खिलाफ. उन्होंने कहा, 'जम्मू-कश्मीर में चीजें सुधर रही हैं और 14 फरवरी के भीषण आतंकवादी हमले के जिम्मेदार लोगों को सुरक्षा बल दंडित करेंगे.'