close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अजमेर: जल संचयन के लिए डीएम की पहल, की 'हाफ ग्लास वाटर' कैंपेन की शुरुआत

जिला कलेक्टर ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों से अपने अधीन कार्यालयों के कार्मिकों को आदेश जारी कर, अभियान की प्रभावी क्रियान्विति के निर्देश भी दिए है. 

अजमेर: जल संचयन के लिए डीएम की पहल, की 'हाफ ग्लास वाटर' कैंपेन की शुरुआत
यह अभियान आमजन के लिए प्रारंभ किया गया है.

दिलशाद खान/भीलवाड़ा: अजमेर के भीलवाड़ा जिला कलेक्टर राजेन्द्र भट्ट ने बूंद-बूंद पानी बचाने के लिए 'आधा गिलास पानी' मुहिम शुरू की है. इसके माध्यम से पानी बचाने से लेकर पानी की बर्बादी रोकने और जल का संचयन करने के लिए लोगों को जागरूक करने की शुरुआत हुई है. डीएम भट्टा का कहना है कि जब आपको आधे गिलास पानी की प्यास हो तो आप पूरा गिलास पानी क्यों मंगाए, और जितना पीएं उतना ही व्यर्थ क्यो बहाएं? जल संचय के इस अनूठे विचार को लेकर स्वाधीनता दिवस से जिले में 'हाफ गिलास वाटर' केम्पेन प्रारंभ किया गया है. अभियान को घर-घर तक पहुंचाने के लिए जिला कलक्टर राजेन्द्र भट्ट ने जिला स्तरीय, ब्लॉक स्तरीय तथा ग्राम पंचायत स्थित सरकारी, अर्ध सरकारी संस्थानों, शिक्षण संस्थानों तथा पंचायती राज विभाग अधिकारियों को अपने अधीनस्थ कार्यालयों में आगन्तुकों के लिए उन्हें पूंछ कर ही पानी सर्व करे तथा पहली बार में आधा गिलास पानी ही प्रस्तुत करें की शुरूआत की है.

जिला कलेक्टर ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों से अपने अधीन कार्यालयों के कार्मिकों को आदेश जारी कर, अभियान की प्रभावी क्रियान्विति के निर्देश भी दिये है. उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा में कुछ समय पहले तक वाटर ट्रेन से पेयजल सप्लाई होता था इसलिए शहर के लोग पानी की कीमत को समझते है. अब चंबल से पेयजल सप्लाई चालू हो जाने पर अपने आधे भरे मटकों के पानी को व्यर्थ न फेके, उसका सदुपयोग करें. RO से निकलने वाले पानी का भी कही न कहीं उपयोग करें तभी हम पेयजल की गंभीर चुनौती से निपटने में कामयाब हो सकेंगे. उन्होंने कहा कि राजस्थान जैसे प्रदेश में जल संचय की पंरपरा रही है. 

जिला कलक्टर भट्ट ने कहा कि यह अभियान आमजन के लिये प्रारंभ किया गया है इसलिए हम सभी की जिम्मेदारी है कि जन कल्याण के इस अभियान में अपनी ओर से आगे आकर सहयोग करें. इसके लिए सभी गैर सरकारी व सामाजिक संगठनों, व्यापारिक संगठनों तथा आमजन को आगे आना होगा. उन्होंने कहा कि होटल और रेस्टोरेंट मालिक भी इस अभियान में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते है. वह अपने ग्राहकों को आधा गिलास पानी ही प्रस्तुत करें तथा अपने प्रतिष्ठान में आधा गिलास पानी का बैनर लगाएं. भट्ट ने कहा कि हमें जीवन के हर क्षण, जहां भी पानी की बचत की संभावना हो, पानी की बचत के प्रयास करने चाहिए. जिला कलेक्ट्र भट्ट ने आमजन से अपील की है कि वह इस अभियान में सहयोग करें और पानी को हर सम्भव प्रयास कर बचाएं.

डीएम की इस पहल को शहरवासियों ने भी खुब सराहा है. शहरवासी दुर्गेश शर्मा का कहना कि भीलवाड़ा शहर और जिला पानी के मामले में बहूत परेशान रह चुका है, वर्तमान में बरसात काफी हो चुकी है और चम्बल का पानी भी शहर में आ चुका है, लेकिन जरूरी है पानी का संचय करना. डीएम ने आधे ग्लास पानी की जो शुरूआत की है वह स्वागत योग्य है. हम आधे गिलास पानी से अपनी प्यास बूझा सकते है तो पुरा गिलास क्यों व्यर्थ करें, जल संचय के लिए आम जनता भी जागरूक हो चुकी है और कलेक्टर का यह प्रयास इसका जागरूकता को पैदा करने में कारगर साबित हो रहा है.