close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में 'भागीरथी योजना' लगाएगी खस्ताहाल रोडवेज की नैया पार

रोडवेज की प्रबंधक शुचि शर्मा ने निर्देशों में लिखा कि इस योजना के तहत वर्तमान यात्री एक बार में कम से कम प्रतिशत की वृद्धि करने का लक्ष्य रखा गया है. 

राजस्थान में 'भागीरथी योजना' लगाएगी खस्ताहाल रोडवेज की नैया पार
फाइल फोटो

अनूपगढ़: राजस्थान राज्य परिवहन पथ निगम लगातार घाटे में चल रहा है. निगम को वित्तीय संकट से उबारने के लिए प्रबंधन द्वारा नित नए प्रयोग करने की कोशिश की जा रही है. वर्तमान में जयपुर मुख्यालय ने भागीरथ योजना के तहत रोड़वेज को घाटे से उबारने की कोशिश की है. इस योजना के तहत रोडवेज की प्रबंधक शुचि शर्मा ने भागीरथ योजना के सम्बंध में सभी आगार प्रबंधकों को निर्देश जारी किए हैं.

इस योजना के तहत हर रोडवेज की बस में चालक तथा परिचालक को 2 या दो से अधिक अतिरिक्त यात्रियों को रोडवेज में यात्रा करने के लिए प्रेरित करना होगा. इस योजना का सारा दारोमदार चालक-परिचालकों पर रहेगा. हालांकि, निगम द्वारा जारी आदेशों में इस योजना को सफल करने के लिए चालक परिचालकों के साथ सभी कर्मियों की सहभागिता होना आवश्यक है.

भागीरथी से ऐसे होगी रोडवेज की नैया पार 
रोडवेज की प्रबंधक शुचि शर्मा ने निर्देशों में लिखा कि इस योजना के तहत वर्तमान यात्री एक बार में कम से कम प्रतिशत की वृद्धि करने का लक्ष्य रखा गया है. एक प्रतिशत यात्रीभार की वृद्धि से 2 करोड़ रुपए मासिक तथा 4 प्रतिशत यात्रीभार अर्थात 2 यात्री प्रति बस अतिरिक्त बढ़ाने पर 8 करोड़ रुपए मासिक की दर से आय में वृद्धि होगी. जिससे राजस्थान रोडवेज की वित्तीय स्थिति में सुधार होगा. अनूपगढ़ आगार के मुख्य प्रबंधक अब्दुल कलाम ने बताया कि रोडवेज की भागीरथी योजना से पूर्व ही चालक परिचालकों को यात्रियों को रोडवेज की बसों में यात्रा करने के लिए प्रेरित करने के दिशा निर्देश देते रहे हैं.

बाईपास जाने एवं मुख्य मार्गों पर पुलिया के ऊपर से जाने की अनावश्यक प्रथा को तत्काल बंद किया जाए. मार्गों के सभी बस स्टैंड एवं चयनित प्रार्थना स्टेंडर्ड यात्रियों को आवश्यक रूप से बैठाना सुनिश्चित किया जाए. उन्होंने निर्देश दिए कि चालक- परिचालक किसी स्टेंड से यात्री को नहीं छोड़ेंगे बल्कि अन्य साधनों के यात्रियों को भी अपने सद्व्यवहार से अपनी और आकर्षित कर निगम के वाहनों में यात्रा करने के लिए प्रेरित करेंगे. 

उन्होंने सुझाव दिया कि कुछ चुनिंदा बस सेवाओं को नॉनस्टॉप कर यात्रियों को यात्रा समय में बचत करवा कर यात्रियों को लाभान्वित किया जाए. अशक्त, असहाय एवं महिला यात्रियों के सामान, लगेज एवं बच्चों को बस में बैठाने के लिए परिचालक द्वारा सहयोग कर बस में यात्रा सुविधाएं उपलब्ध करवाकर यात्रियों का दिल जीतने का प्रयास किया जाए. मासिक पास जारी एवं स्मार्ट कार्ड धारी यात्री भी राजस्थान परिवहन निगम की स्थाई ग्राहक है अत: उन्हें भी नियमानुसार यात्री सुविधा सद्व्यवहार के साथ उपलब्ध करवाई जाए.