Dholpur: पार्वती नदी का रौद्र रूप को देखते हुए रेड अलर्ट जारी, SDRF की टीम तैनात

जिले में सावन में हो रही जबरदस्त बारिश  के बीच सोमवार को पार्वती नदी (Parvati River) ने अपना रौद्र रूप दिखा दिया है. पार्वती नदी पूरे उफान पर है. 

Dholpur: पार्वती नदी का रौद्र रूप को देखते हुए रेड अलर्ट जारी, SDRF की टीम तैनात
पार्वती नदी का रौद्र रुप
Play

Dholpur: जिले में सावन में हो रही जबरदस्त बारिश (Heavy Rain in Dholpur) के बीच सोमवार को पार्वती नदी (Parvati River) ने अपना रौद्र रूप दिखा दिया है. पार्वती नदी पूरे उफान पर है. 

यह भी पढे़ं- आसमानी आफत के बाद खोले गए पांचना बांध के 6 गेट, Bharatpur समेत दो दर्जन गांवों में 'Red Alert'

नदी में पानी के खतरे को देखते हुए पार्वती नदी में आंगई बांध से पानी रिलीज किये जाने के बाद बाड़ी-बसेड़ी सड़क मार्ग,सैपऊ-बाड़ी सड़क मार्ग का आवागमन पूरी तरह से ठप हो चुका है. उसके साथ ही कौलारी-मालौनी रपट और सखवारा-मनिया रपट पर भी देर रात तक पानी पहुंचने से आवागमन की रफ्तार थम जाएगी. पार्वती नदी के उफान से बाड़ी-बसेड़ी मार्ग और राजाखेड़ा उपखंड इलाके में दर्जनों गांव के संपर्क उपखंड मुख्यालय से कट जाएंगे. 

यह भी पढे़ं- Rajasthan में भारी बारिश से मची तबाही, पार्वती डेम के 22 में से 19 गेट खोले

 

वर्तमान परिस्थिति में सैपऊ मुख्यालय से करीब दो दर्जन और बसेड़ी उपखंड मुख्यालय से डेढ़़ दर्जन गांव के संपर्क टूट चुके हैं. पार्वती नदी उफान पर होने से निचले इलाकों की बस्ती में पानी भरने की प्रबल संभावना दिखाई दे रही है, जिसे लेकर जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है. नदी के तटवर्ती एवं निचले इलाकों में हल्का पटवारी,गिरदावर,सचिव एवं सरपंचों को विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिए हैं.

19 गेट खोल कर 44 हजार 778 क्यूसेक पानी निकाला गया
विगत कई दिनों से हो रही बारिश से जिले का सबसे बड़ा आंगई बांध उफान पर आने के बाद आज सोमवार को जल संसाधन विभाग (Department of Water Resources) द्वारा 19 गेट खोल कर 44 हजार 778 क्यूसेक पानी रिलीज किया है. पानी रिलीज होने से पार्वती नदी के निचले इलाकों में बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं. बाड़ी-बसेड़ी और बाड़ी-सैपऊ मार्ग का आवागमन अवरुद्ध हो चुका है. दोनों रपट पर पांच-पांच फीट पानी होने से प्रशासन ने आवागमन को रोक दिया है. रपट के दोनों छोर पर पुलिस एवं प्रशासन के कर्मचारी तैनात हैं.

हालत गंभीर बाढ़ का खतरा, एसडीआरएफ की टीम तैनात
बसेड़ी और सैपऊ उपखंड इलाके के करीब तीन दर्जन गांव बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं. उसके साथ ही राजाखेड़ा उपखंड इलाके में भी पार्वती नदी के निचले इलाकों में बाढ़ का खतरा देखा जा रहा है. एहतियात के तौर पर जिला प्रशासन ने एसडीआरएफ की टीम को मुस्तैद कर दिया है. जिला मुख्यालय पर कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है. आंगई बांध में पानी की आवक लगातार जारी होने पर खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है. उधर मौसम विभाग (Weather department) से मिली जानकारी में पूर्वी राजस्थान में मानसून का भारी दबाव है. ऐसे में आगामी दो-तीन दिनों में भारी बारिश की संभावना दिखाई दे रही है.

Reporter- Bhanu Sharma