close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रामगढ़ उपचुनाव में बीजेपी- कांग्रेस के लिए चुनौती बने BSP उम्मीदवार जगत सिंह

रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के चुनाव इतिहास को अगर देखें तो यहां हमेशा सांप्रदायिक आधार पर मतदान को प्रभावित करने की परंपरा रही है

रामगढ़ उपचुनाव में बीजेपी- कांग्रेस के लिए चुनौती बने BSP उम्मीदवार जगत सिंह
जगत सिंह कभी कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे और विदेश मंत्री रहे नटवर सिंह के पुत्र हैं

जयपुर: विधानसभा चुनाव में 99 सीट जीतने बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रामगढ़ उपचुनाव को लेकर सभा को संबोधित किया. सभा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य सरकार से लेकर केंद्र सरकार पर जमकर हमले किए. अशोक गहलोत ने कहा की पिछली सरकार को ऐतिहासिक बहुमत मिला था लेकिन जनता से ऐसे वादे किए जो 50 साल में भी पूरे नहीं हो सकते. 

गहलोत ने कहा कि वहीं कांग्रेस की मंशा हमेशा से ऐसी रही है कि जो वादे किए हैं, उन्हें निभाना है. राहुल गांधी ने चुनावी के समय कहा था कि जनता से पूछकर घोषणा पत्र बनाया जाए हमने वही किया. सत्ता में आते ही इस घोषणापत्र को सरकारी दस्तावेज का रूप दे दिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रामगढ़ में कार्यकर्ताओं के सामने किसान की कर्ज माफी के मुद्दे से लेकर वृद्ध और किसान पेंशन योजना तक बीपीएल परिवार को 1 किलो एक रुपए किलो गेहूं और दुग्ध उत्पादकों को ₹2 लीटर बोनस सहित निशुल्क बालिका शिक्षा की योजनाओं को लागू करने से अवगत कराया.

रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के चुनाव इतिहास को अगर देखें तो यहां हमेशा सांप्रदायिक आधार पर मतदान को प्रभावित करने की परंपरा रही है. यहां आमतौर पर चुनावी मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच रहा है. इस बार के चुनाव में कांग्रेस ने 2 बार विधायक रह चुके जुबेर खान की पत्नी साफिया खान को चुनावी मैदान में उतारा है. वहीं भाजपा ने अपने फायर ब्रांड नेता ज्ञानदेव आहूजा का टिकट काटकर सरपंच सुखवंत को मौका दिया है. लेकिन इस चुनाव को त्रिकोणीय बनाने का प्रयास कर रहे हैं बसपा के उम्मीदवार जगत सिंह. 

जगत सिंह कभी कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे और विदेश मंत्री रहे नटवर सिंह के पुत्र हैं. वह भाजपा की टिकट पर कामा से विधायक का चुनाव जीक चुके हैं. लेकिन इस बार इस सीट से बसपा के टिकट पर अपना भाग्य आजमा रहे हैं. जगत के चुनावी मैदान में आने से मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है लेकिन सरकार बनने के बाद कुछ अपवाद को छोड़कर उपचुनाव के परिणाम सत्ता के साथ रहते हैं. ऐसे में कांग्रेस का पलड़ा इस सीट पर भारी नजर आ रहा है. 

अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी जमकर हमले बोले. अशोक गहलोत ने कहा कि नरेंद्र मोदी कहते हैं कांग्रेस ने 50 साल देश में क्या किया. कांग्रेस की सबसे बड़ी देन इस देश में लोकतंत्र को जिंदा रखना है, अगर लोकतंत्र नहीं होता तो नरेंद्र मोदी पीएम कैसे बनते. लेकिन नरेंद्र मोदी ने देश में घृणा हिंसा और नफरत के माहौल से एक ऐसा वातावरण बना दिया है. जिससे संवैधानिक संस्थाओं को खतरा पैदा हो गया है. अशोक गहलोत ने कहा कि अब चर्चा यह होने लगी है कि अगर मोदी सरकार फिर से आ गई तो उसके बाद फिर देश में चुनाव नहीं होंगे.

अशोक गहलोत ने रामगढ़ के लोगों से कहा की चुनाव के समय अफवाह पर ध्यान नहीं दे. अलवर जिले में गोकशी और मॉब लिंचिंग के नाम पर नफरत की राजनीति हुई है, जिन्होंने गलती की कानून उन्हें सजा देगा. अलवर जिले की इस धरती ने नफरत की राजनीति को हमेशा नकारा है और एक बार फिर से आपको सच्चाई के रास्ते पर चलने वाली पार्टी को वोट देना है. लेकिन अब फैसला रामगढ़ की जनता को करना है. चुनाव परिणाम आने के बाद पता चलेगा की इस 1 सीट के जरिए कांग्रेस अपना सौ का आंकड़ा पाकर बहुमत हासिल कर पाती है या उसे सरकार चलाने के लिए बसपा और सहयोगी दल की जरूरत पड़ेगी.

साथ ही अशोक गहलोत से प्रियंका गांधी के राष्ट्रीय महासचिव बनने पर कहा कि राहुल गांधी ने सही समय पर सही फैसला लिया है. फासीवादी ताकतों के खिलाफ अब दोनों नेता मिलकर लड़ेंगे और कांग्रेस को मजबूत बनाएंगे. देश में भाजपा कमजोर हो रही है. विपक्ष के दल एक होकर कांग्रेस के साथ खड़े हैं मंदिर और गाय के नाम पर राजनीति करने वाली भाजपा को काऊ बेल्ट कहे जाने वाले राजस्थान मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की जनता ने नकार दिया है अब लोकसभा चुनाव की बारी है और देश एक बार फिर से सही फैसला करेगा.