close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: 1600 करोड़ की लागत से बनी द्रव्यवती नदी योजना बनी बीमारियों का घर

द्रव्यवती नदी, पूर्व भाजपा सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं में से एक थी जो पूरी तरह अपने स्वरूप में नहीं आई है लेकिन उससे पहले ही ये ''बीमारी बांटने'' वाली नदी बनती जा रही है.

जयपुर: 1600 करोड़ की लागत से बनी द्रव्यवती नदी योजना बनी बीमारियों का घर
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान के में 1600 करोड़ रुपये की लागत से तैयार की गई द्रव्यवती नदी योजना आम जनता के लिए बीमारी का घर बनती जा रही है. दरअसल, गंदे पानी के चलते आसपास के उन स्थानीय लोगों को अब दिक्कतें होने लगी हैं जहां से द्रव्यवती नदी होकर निकलती है. मच्छरों से डेंगू मलेरिया जैसे हालात बनते जा रहे हैं और जयपुर के कुछ चिन्हित स्थानों पर यह समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिल रही है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने तो द्रव्यवती नदी के कुछ क्षेत्र को हाई रिस्क जोन घोषित कर दिए हैं और वहां पर एंटी लार्वा एक्टिविटी भी शुरू कर दी है.

द्रव्यवती नदी, पूर्व भाजपा सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं में से एक थी जो पूरी तरह अपने स्वरूप में नहीं आई है लेकिन उससे पहले ही ये ''बीमारी बांटने'' वाली नदी बनती जा रही है. जयपुर के मानसरोवर SMS कॉलोनी के पास द्रव्यवती नदी के लिए गन्दा पानी साफ करने के जो STP लगाये गये गये है उससे स्थानीय लोगों को बहुत ज्यादा दिक्कत हो रही है. पूरे दिन बदबू और मच्छरों की समस्या से अब यहां के आम बाशिंदे बीमार रहने लगे हैं. यहां तक कि बच्चों को भी जल्दी जल्दी बुखार आने लगा है. बदबू का आलम ऐसा है के इलाके के लोगों का रहना भी अब दुर्भर होता जा रहा है.

वहीं इस पूरे मामले में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है कि द्रव्यवती नदी एक जल्दबाजी वाली योजना थी. पिछली सरकार ने महज वाह वाही लूटने के लिए बिना पूरी तैयारी के इस योजना को जनता के बीच रख दिया और अब इसके चलते लोग बीमार हो रहे हैं जो एक तरह का अपराध है. शहर में मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए जिला कलेक्टर ने बरसात शुरू होने के साथ ही एंटी लार्वा व मच्छरों की रोकथाम के लिए अभियान की बात भी कही थी ताकि शहरवासियों को मौसमी बीमारियों से बचाया जा सके. कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा था कि द्रव्यवती नदी में क्षेत्र से मच्छरों की शिकायतों के बारे में निगम नियंत्रण का अभियान चलाएं

द्रव्यवती नदी योजना पूर्ववती सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं में से एक है. जिसे शहर के लिए लाइफलाइन कहा जा रहा था लेकिन समय रहते हुए भाजपा इसका काम पूरा नहीं करवा सकी और सिर्फ श्रेय लेने के लिए जल्दबाजी में इस योजना को लाया गया. जो आधा अधूरा उद्घाटन के जैसे ही था लेकिन अब जनता इसके दुष्परिणाम भुगत रही है. जीवनदायिनी के तौर पर नदी को जाना जाता है लेकिन अब एक नदी जनता के लिए बामारियां बांट रही है.