जोधपुर: CM अशोक गहलोत ने किया टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, किसानों से की बात

बाड़मेर जिले के उण्डू, आरंग, झाक, रतेऊ, मौखाब सहित आधा दर्जन से अधिक गांवो में टिड्डी दल ने अपने पैर पसार दिए थे. 

जोधपुर: CM अशोक गहलोत ने किया टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, किसानों से की बात
CM ने टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर टिड्डी दल से फसलों को हुए नुकसान का जायजा लिया.

बाड़मेर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बाड़मेर में टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर टिड्डी दल से फसलों को हुए नुकसान का जायजा लिया. किसानों, स्थानीय निवासियों के साथ इस समस्या को लेकर संवाद भी किया. साथ ही, अशोक गहलोत ने टिड्डी दल से फसलों को हुए नुकसान के लिए किसानों को मुआवजा देने का एलान भी किया है. 

बता दें कि, कई सालों से सूखे की मार का दंश झेल रहे थार में इस बार अच्छी बारिश होने से खेतों में बाजरा सहित कई तरह की फसले लहलहराने लगी थी, लेकिन पाकिस्तान से आए टिड्डी दल ने किसानों की उम्मीदों और आशाओं पर पूरा का पूरा पानी फेर दिया. यहां तक कि बाड़मेर जिले के उण्डू, आरंग, झाक, रतेऊ, मौखाब सहित आधा दर्जन से अधिक गांवो में शुक्रवार शाम से ही टिड्डी दल ने अपने पैर पसार दिए थे.

नेहड़ क्षेत्र में 15 दिन के भीतर टिड्डियों का दूसरी बार हमला हुआ था, जिससे नेहड़ क्षेत्र के आठ पटवार मंडल के 43 गांवो में टिड्डियों ने किसानों के खेत साफ कर दिए थे. सूचना पर सूबे के वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम बिश्नोई ने जिला कलेक्टर महेंद्र सोनी सहित बैंक और कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ नेहड़ क्षेत्र का दौरा कर किसानों के दर्द पर मरहम लगाने की कोशिश की थी. इस क्षेत्र में टिड्डियों का हमला कोई पहली बार नहीं हुआ है. इससे दस दिन पहले भी यहां कई गांवो में टिड्डियां फसलों को चट कर चुकी हैं, लेकिन टिड्डी नियंत्रण दल बिल्कुल ही फैल साबित हो रहा है.

वहीं, 43 गांवो में 90 फीसदी नुकसान का आकलन हुआ है. कृषि विभाग द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. भीमगुड़ा पटवार मंडल के राजस्व गांव भीमगुड़ा में 75 फीसदी, भीमगुड़ा भाटा, रामदेव नगर, जाणीपूरा, कलजी की बेरी, वेडिया और भींचरो की ढाणी में 100 फीसदी तथा आरवा में 50 फीसदी नुकसान हुआ है.

वहीं टांपी पटवार मंडल के राजस्व गांव मेलावास चारणान व रायपुरिया में 100 फीसदी, मालासर में 85, सुजानपुरा में 90, भलाइयां में 80 फीसदी नुकसान हुआ है. वहीं खेजड़ियाली पटवार मंडल के खेजड़ियाली में 90, हाजीपुर में 70, चामुंडानगर में 100, शिवगढ़, सिपाहियों की ढाणी और आकोड़ीया में 80 फीसदी नुकसान हुआ है.

भवातड़ा में 90, जोरादर में 50, धींगपुरा में 95, रिड़का में 95, सकुरगढ़ में 90 और मंडाली में 50 फीसदी नुकसान हुआ है. बालेरा पटवार मंडल के बालेरा में 90, भाटकी ने 90, नलधरा में 90, शिवनगर में 90, सुन्थड़ी में 90, उमरकोट 90, डंडियावांगा में 90, वरणवा में 90, अहमदकोट में 90, साकरिया में 90, विशनपुरा में 50, फोगड़वा में 95 फीसदी नुकसान बताया गया है.

इतना ही नहीं, अपनी फसलों को टिड्डियों से बचाने के लिए ग्रामीणों ने ढोल थाली बजाकर काफी प्रयास भी किए लेकिन टिड्डी हटने का नाम ही नहीं ले रही थी. वहीं, जिला कलेक्टर ने भी अधिकारियों की बैठक लेकर टिड्डी को नियंत्रण के निर्देश दिए और फिल्ड प्रभारी भी नियुक्त किए थे.