close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: निजी मोबाइल कंपनियों से हो रहा मोहभंग, BSNL की तरफ लगा रहे हैं दौड़

मार्च में बीएसएनएल से जुड़ने वाले उपभोक्ताओं की संख्या 64 हजार 723 रही. 

राजस्थान: निजी मोबाइल कंपनियों से हो रहा मोहभंग, BSNL की तरफ लगा रहे हैं दौड़
आवश्यकता BSNL को मजबूत करने की है. (फाइल फोटो)

जयपुर: निजी मोबाइल टेलिकॉम कम्पनियों को छोड़कर उपभोक्ता अब बीएसएनएल मोबाइल की सर्विस की ओर ज्यादा आकर्षित हो रहे है. राजस्थान में हर महीने करीब हजारों की तादात मोबाइल उपभोक्ता बीएसएनएल में अपना कनेक्शन पोर्ट करवा रहे है. जिसमें वोडाफोन, एयरटेल, रिलायंस, जीओ सहित अन्य निजी मोबाइल कंपनी के उपभोक्ता शामिल हैं. 

निजी मोबाइल कंपनी के नेटवर्क सेवा से परेशान उपभोक्ता केंद्र सरकार की बीएसएनएल मोबाइल को ज्यादा पसंद कर रहे हैं. जिससे बीएसएनएल की आय में भी इजाफा हो रहा है.

बता दें, बीएसएनएल मोबाइल का पोर्ट .41 चल रहा है. एक उपभोक्ता बीएसएनएल को छोडकर जाता है तो 2 से ज्यादा उपभोक्ता बीएसएनएल से जुड रहे है. जिनमें वोडाफोन,एयरटेल,रिलायंस,जीओ सहित अन्य मोबाइल टेलिकॉम कंपनी के उपभोक्ता बीएसएनएल से जुड़ रहे है. 

ट्राई ने तय की है मानक
बीएसएनएल की सर्विस उसके लिए टेलिकॉम रेगुलेटिक ऑथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इसके लिए मानक तय किए हुए है. कुछ बैंच मानक तय किए हुए है. जिसके अनुसारसेवा प्रदाता है को सर्विस उपलब्ध करानी होती है.

जानिए कितने लोगों ने लिया कनेक्शन
जहां मार्च में बीएसएनएल से जुड़ने वाले उपभोक्ताओं की संख्या 64 हजार 723 रही. वहीं, बीएसएनएल छोड़ने वाले उपभोक्ताओं की संख्या 9 हजार 867 रही. इसके साथ ही अप्रैल में बीएसएनएल से जुडने वाले 38 हजार 360 उपभोक्ता रहें.  

बढ़ा है दायरा
आपको बता दें कि राजस्थान परिमंडल बीएसएनएल से मोबाइल उपभोक्ता जुडने से बीएसएनएल का शेयर बाजार भी 2 प्रतिशत बढा है. 31 मार्च तक बीएसएनएल का शेयर बाजार 10.2 था लेकिन अब शेयर बाजार 2 प्रतिशत बढने से 12.2 प्रतिशत शेयर बाजार हो गया है. बीएसएनएल के लिए एक अच्छी उपलब्धि है. 

सरकार की पहल की जरुरत
अब आवश्यकता है की केंद्र सरकार बीएसएनएल को और मजबूत करे. जिससे प्रदेश और देश के उपभोक्ताओं को अन्य निजी कंपनियों की सर्विस नेटवर्क सर्विस से परेशानी नहीं उठानी पड़े.