बाड़मेर के किसानों को रुला रहा पाकिस्तान से आया इन दुश्मनों का समूह!

यह कहर पाकिस्तान से आया है. पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर के बॉर्डर के इलाकों में बारिश की तरह टिड्डी ने अटैक कर दिया, जिसके चलते रबी की पूरी फसल नष्ट हो गई.

बाड़मेर के किसानों को रुला रहा पाकिस्तान से आया इन दुश्मनों का समूह!
पाक से आए टिड्‌डी दल से कई गुना अधिक फाका यहां पनप रहा है.

भूपेश आचार्य, बाड़मेर: राजस्थान में कुदरत का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. आलम यह है कि एक तरफ तो राजस्थान के सीकर, बीकानेर, नागौर सहित कई इलाकों में जमकर ओलावृष्टि हुई तो वहीं दूसरी तरफ बाड़मेर से बॉर्डर के लगते इलाकों में पहली बार इतना बड़ा कुदरत का कहर बरपा कि रबी की फसल पूरी की पूरी बर्बाद हो गई.

यह कहर पाकिस्तान से आया है. पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर के बॉर्डर के इलाकों में बारिश की तरह टिड्डी ने अटैक कर दिया, जिसके चलते रबी की पूरी फसल नष्ट हो गई.

अब किसानों को इस बात की चिंता सता रही है, जो कर्ज किसानों ने लिया था, उसकी भरपाई कैसे होगी? अब उन्हें इस बात की चिंता सता रही है कि सरकार ने अगर उनकी मदद नहीं की तो आने वाले समय में इस तरीके की आपदा आ सकती है. पाकिस्तान के रास्ते भारत में आ रहे टिड्‌डी दल थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. प्रदेश के तीन लाख हैक्टेयर में खड़ी किसानों की खरीफ की फसलें तबाह करने के बाद अब रबी की फसलों पर भी आफत बनी हैं.

भारत सरकार की ओर से टिड्‌डी नियंत्रण दल एवं चेतावनी संगठन भी बना हुआ है. प्रशासन का दावा है कि 8 वाहनों की टीमों से जिले भर में नियमित रूप से टिड्‌डी नियंत्रण का कार्य किया जा रहा है. हकीकत यह है कि केवल सूंदरा क्षेत्र के 20 किमी क्षेत्र में फाका पनप रहे हैं. विभाग को कई बार सूचना देने के बाद भी टिड्‌डी दल पर छिड़काव नहीं किया जा रहा है. 

नतीजतन पाक से आए टिड्‌डी दल से कई गुना अधिक फाका यहां पनप रहा है. वहीं अब भी पाकिस्तान से टिड्‌डी दल आ रहे हैं. सीमांत सेड़वा एवं गडरारोड तहसील क्षेत्र के दर्जनों गांवों में टिड्‌डी दल ने किसानों की फसलों को तबाह कर दिया। किसान संबधित पटवारी, तहसीलदार को सूचना दे रहे हैं. उसके बाद भी अगले दिन तक टिड्‌डी नियंत्रण दल मौके पर नहीं पहुंच रहा है.

सेड़वा उपखंड के सारला, जेकेबी, दीपला, जानपालिया, हरपालिया, सेड़वा, सम्मो की ढाणी, भंवार, सिंहार, चिचड़ासर, बांधनिया सहित आस के ग्रामीण क्षेत्र में टिड्‌डी दल ने जीरा, ईसबगोल, सरसों, गेहूं, अरंडी की खड़ी फसलें चौपट कर दीं. किसानों ने हल्का पटवारी, तहसीलदार से फसलों में हुए नुकसान का मौका-मुआयना कर टिड्‌डी दल के बचाव को लेकर दवाई का छिड़काव कर शेष बची फसलों के बचाव करवाने की मांग की है.