राजस्थान: जाबांज नारायण लाल गुर्जर को दी गई अंतिम विदाई, लगे भारत माता जय के नारे

देश की रक्षा में शहीद हुए राजसमन्द के बिनोल गांव के सिपाही नारायण लाल गुर्जर का पार्थिव देह शनिवार को पंच तत्व में विलीन हो गया.

राजस्थान: जाबांज नारायण लाल गुर्जर को दी गई अंतिम विदाई, लगे भारत माता जय के नारे
प्रभारी मंत्री उदयलाल आंजना ने परिवार को सरकारी सहायता राशि का चेक प्रदान की.

राजसमंद: पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए राजसमन्द के बिनोल गांव के जांबाज सिपाही को आज नम आंखों से अंतिम विदाई दी गई. शहीद नारायण की अंतिम यात्रा में हजारो लोग उमड़े और उनकी शहादत को नमन किया.

देश की रक्षा में शहीद हुए राजसमन्द के बिनोल गांव के सिपाही नारायण लाल गुर्जर का पार्थिव देह शनिवार को पंच तत्व में विलीन हो गया. शहीद की अंतिम यात्रा में उनकी शहादत को नमन करने केंद्रीय मंत्री सीआर चौधरी, प्रभारी मंत्री उदय लाल अंजना, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, सांसद हरिओम सिंह राठौड़ और करीब आधा दर्जन विधायक सहित हजारो लोग मौजूद रहे. 

शहीद के शव यात्रा के दौरान उमड़ी हजारों की भीड़

शहीद नारायण का पार्थिव देह सुबह में राजसमन्द के जेके हवाई पट्टी पहुंचा. जहां हजारो लोगों ने भारत माता की जय घोष के साथ नारायण की शहादत को नमन किया. इस दौरान हवाई पट्टी से शहीद के पैतृक गांव बिनोल तक जगह जगह लोगो ने शहीद के शव पर पुष्प वर्षा कर पार्थिव देह को नमन किया. बिनोल में सावर्जनिक दर्शन के बाद शहीद की अंतिम यात्रा निकाली गई. जिसके बाद मोक्ष धाम में सीआरपीएफ और पुलिस के जवानों ने उन्हें सलामी दी.

7 साल के बेटे ने दी मुखाग्नि

इसके बाद नारायण के सात वर्षीय पुत्र मुकेश ने मुखाग्नि दी. इस दौरान पूरा मोक्ष धाम भारत माता की जय ओर पाकिस्तान मुर्दा बाद के नारों से गूंज उठा. इस मौके पर तमाम जनप्रतिनिधियों ने नारायण की शहादत को नमन कर अपनी संवेदना व्यक्ति की.

मिली सरकारी मदद और भी हाथ आए सामने

वहां मौजूद मंत्री चौधरी ने कहा कि हमारी सेना पाकिस्तान की इस हरकत का माकूल जवाब देगी. वहीं, इस मौके पर प्रभारी मंत्री उदयलाल आंजना ने शहीद के परिवार को सरकारी सहायता राशि का चेक प्रदान किया और परिजनों को सरकार की ओर से हर संभव मदद दिलाने का भरोसा दिलाया. जबकि, राजसमन्द कलक्टर की पहल पर सभी राजकीय कर्मचारियों की ओर से शाहिद परिवार की मदद के लिए 500 रुपए दिए जाने की बात भी कही गई है. कर्मचारियों के तरफ से करीब 50 लाख की सहायता  राशि नारायण और पूर्व में भीम कस्बे के शहीद हुए जवान के परिजनों को प्रदान की जाएंगी.

सीआरपीएफ के शहीद जवान नारायण को अंतिम विदाई देने आए हजारो लोगों ने सरकार से पाकिस्तान को करारा जवाब देने की मांगी की. जिससे भारत माता की रक्षा में लगे जवानों की शहादत को सच्ची श्रद्धांजली अर्पित की जा सके.