close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चूरू में कबड्डी खिलाड़ियों के आए अच्छे दिन, सिंथेटिक मैट पर करेंगे प्रैक्टिस

जिला स्टेडियम में यह मेट लगने से खिलाड़ियों की सालों से चली आ रही परेशानी खत्म होने जा रही है. साथ ही, 5 लाख की लागत से शीघ्र ही मैदान तैयार करवाया जाएगा.

चूरू में कबड्डी खिलाड़ियों के आए अच्छे दिन, सिंथेटिक मैट पर करेंगे प्रैक्टिस
इस मैट पर कबड्डी काफी तेज गति से खेली जाती है.

चूरू: राजस्थान के चूरू जिले के कबड्डी खिलाड़ियों के लिए एक अच्छी खबर है. अब जिला मुख्यालय के खिलाड़ी जिला स्टेडियम में कबड्डी का खेल मैदान इंटरनेशनल स्तर के सिंथेटिक मैट पर खेल सकेंगे. अब तक यहां के खिलाड़ी मिट्टी में ही कबड्डी के दांव सीख रहे थे लेकिन अब सांसद राहुल कस्वां के कोटे से जिला खेल स्टेडियम में सिंथेटिक मैट लगा कर मैदान तैयार किया जाएगा.

खिलाड़ियों की परेशानी होगी खत्म
जिला स्टेडियम में यह मेट लगने से खिलाड़ियों की सालों से चली आ रही परेशानी खत्म होने जा रही है. लगभग 5 लाख की लागत से शीघ्र ही मैदान तैयार करवाया जाएगा. इसके लिए जिला खेल स्टेडियम में सिंथेटिक मैट आ चुका है. साथ ही अभी जिला खेल स्टेडियम में कबड्डी की कोच सरस्वती के निर्देशन में कई राष्ट्रीय स्तर के कबड्डी के खिलाड़ी अभ्यास कर रहे हैं.

ये होंगे फायदे
बता दें कि जिला मुख्यालय के जिला खेल स्टेडियम में जब यह मैट लग जाएगा तो इस सिंथेटिक मैट पर प्रैक्टिस करने से खिलाड़ियों को कई फायदे होंगे. जहां कई राष्ट्रीय टूर्नामेंट अभी इसी तरह के मैट पर हो रहे हैं. वहीं ऐसे में चूरू के खिलाड़ियों को शुरू से ही मैट पर खेलने का मौका मिलेगा. जिससे वे किसी भी प्रतियोगिता में अपना स्वाभाविक खेल दिखा सकेंगे.

यह हैं मैट की खासियत
गौरतलब हो कि इस मैट पर कबड्डी काफी तेज गति से खेली जाती है. वहीं मिट्टी के मैदान में इसकी गति धीमी होती है. ऐसे में मिट्टी में अभ्यास के बाद यहां के खिलाड़ी जब मैट पर अपना प्रदर्शन करते थे तो कई बार घायल हो जाते थे. अब प्रारंभ से ही उन्हें सिंथेटिक मैट पर ही अभ्यास करने का मौका मिलेगा. जहां मैट पर अभ्यास करने से नए-नए खिलाड़ी आकर्षित होंगे तो वहीं चूरू में भी अब कबड्डी की इंटरनेशनल सुविधा मिल सकेगी. जिससे जिला मुख्यालय के खेल स्टेडियम में कबड्डी की कई प्रतियोगिताएं आयोजित होने की भी संभावनाएं बढ़ेंगी.