• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    90कांग्रेस+

  • अन्य

    98अन्य

चांद पर जमीन खरीदने का झांसा दिया, 50 हजार का चूना लगाया

13 साल बाद राधिका सामने आई हैं, उनके साथ हुई धोखाधड़ी और किसी के साथ ना हो ऐसी कामना कर रहीं है.

चांद पर जमीन खरीदने का झांसा दिया, 50 हजार का चूना लगाया
photo : Zee news

अरुण मेहेत्रे, पुणे : पुणे की एक महिला सायबर फ्रॉड का शिकार बन गई. करीब 13 साल पहले, यानी 2005 में एक कंपनी चांद पर जमीन बेचने का दावा कर रही थी. अमरेका से फोन भी आया, महिला ने पैसे भी भेजे. चांद पर जमीन के फोटो और उनके नाम पर जमीन खरीद के कागजात पुणे की राधिका दाते को भेजे गए. लेकीन कुछ दिनों मे ही उन्हे पता चला की ठगी हुई है. यह पूरा सौदा उन्‍होंने घरवालों से छिपाकर किया था. 2007 में घरवालों से छिपकर पुलिस में शिकायत भी दर्ज की थी. लेकिन कुछ नहीं हुआ. 13 साल बाद राधिका सामने आई हैं, उनके साथ हुई धोखाधड़ी और किसी के साथ ना हो ऐसी कामना कर रहीं है.

राधिका के पास चांद पर जमीन लेने के सभी कागजात हैं. लेकिन वह कंपनी अब नौ दौ ग्यारह हो चुकी है, जिसने उन्हें 1 एकड़ जमीन पचास हजार में बेची थी. राधिका ने चांद पर जमीन खरीदने का मौका, बुक करो चांद पर अपना प्लॉट ऐसा विज्ञापन टीवी पर देखा था. उसने स्‍क्रीन पर दिए नंबर पर फोन किया और जमीन खरीदने की इच्छा जाहिर की.

राधिका ने बताया की सामने से अमेरिकन लहजे वाले व्यक्‍त‍ि नें उन्हे जमीन और उसे खरीदने की पूरी प्रक्रि‍या बताई. साथ ही साथ वह जमीन के फोटो भी भेजे जो उन्हें खरीदने हैं. कानूनी कागजात होने का दावा किया गया. जिसके बाद उनसे पैसे मांगे गए. हम नासा की कंपनी होने का दावा चांद पर जमीन बचने वाली कंपनी लुनार फाऊंडेशन ने किया था.

राधिका दाते का कहना है की जमीन से जुडी सभी जानकारी आ गई तब उन्‍होंने पैसे ल्‍यूनर कंपनी को ट्रान्सफर कर दिए. यह सब बातें उन्होंने घरवालों से छिपाकर रखी. क्योंकी वह घरवालों को सरप्राईज देना चाहती थीं. अपने बेटे को बड़ा होकर चांद पर जमीन होने का सरप्राईज देना चाहती थीं.  

लेकिन उन्‍हें उस वक्त झटका लगा जब दो साल बाद कंपनी का अस्तित्व भी नहीं मिला. उन्हे पता चला की ठगी हुई है. क्योंकि‍ मामला छिपछिपाकर किया था तो वैसे ही कोथरुड पुलीस स्टेशन में जाकर लिखि‍त शिकायत भी दर्ज करा दी और किस्मत को कोसती रहीं. उन्होनें पहले तो अपने घरवालों को उनके साथ जो हुआ उसे बताया. परीवार ने सपोर्ट किया तो मीडिया के सामने आ गईं.  सायबर सेल एक्सपर्ट का कहना है की चांद पर जमीन देने का दावा करने वाले कई फर्जी लोग रोजाना राधिका की तरह ही ठगे जाते हैं. ऐसा होने पर तुरंत पुलिस के सायबर सेल में जाने और मामला दर्ज करने पर जोर देना चाहिए.