close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र के सभी स्कूलों में बैन हुआ जंक फूड, अब से कैंटीन में मिलेगा सेहतमंद खाना

कैंटिन के मैन्यू से चिप्स, नूडल्स, कार्बोनेटेड सॉफ्ट ड्रिंक्स, पिज़्जा,बर्गर, केक, बिस्किट,बन,पेस्ट्रीज बाहर कर स्कूलों में पोष्टिक चीजों की बिक्री बढ़ाने को कहा गया है.

महाराष्ट्र के सभी स्कूलों में बैन हुआ जंक फूड, अब से कैंटीन में मिलेगा सेहतमंद खाना
महाराष्ट्र FDA ने स्कूल और कॉलेज की कैंटीन से मैन्यू से जंक फूड को हटाने को कहा है.

मुंबईः महाराष्ट्र के 10 हजार स्कूल-कॉलेजों की कैंटिन से अब धीरे धीरे जंक फूड पूरी तरह से बाहर हो जाएगा. महाराष्ट्र फूड एंड ड्रग एडमिनिशट्रेशन ने स्कूल-कॉलेजों की कैंटिन के लिए गाइडलाइंस के बाद इस लागू करने के लिए जागरूकता अभियान शुरू किया है जिसका मकसद है हेल्दी फूड को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा देना. बच्चों में मोटापा, दांत की बिमारी और डायबिटीज जैसी बीमारियों में तेजी से बढ़ोतरी को देखते हुए महाराष्ट्र FDA ने राज्य भर के 10 हजार स्कूल कॉलेजों से जंक फूड हटाकर हेल्दी फूड शामिल करने की गाइडलाइंस जारी करने के बाद अब हेल्दी फूड को लेकर जागरुकता अभियान भी शुरू कर दिया है. 

साल के अंत तक पूरे राज्य में बच्चों की कैंटिन में हेल्दी फूड को लेकर अभियान चलाएगा जाएगा. महाराष्ट्र FDA ने स्कूल-कॉलेजों की कैंटिंन का मैन्यू बदलने के लिए कहा है और स्कूलों के मैन्यू से जंक फूड को बाहर किया जाए. देश भर में इस तरह की गाइडलाइंस जारी करने वाला महाराष्ट्र पहला राज्य है और राज्य सरकार का हर स्कूल कॉलेजों में फूड टेस्टिंग लैब्स भी स्थापित करने की योजना है. जंक फूड में हाई फैट, हाई शुगर, हाई सॉल्ट से फूड से बच्चों में बीमारियों के लक्षण बढ़ रहे हैं. इसलिए स्कूलों की कैंटिंन का मैन्यू बदलने के लिए कहा और FDA की गाइडलाइंस के मुताबिक प्रोटीन युक्त पोष्टिक आहार को शामिल किया जाए. 

जानिए, एक सप्ताह में महिलाओं और पुरुषों को कितने पैग पीने चाहिए शराब

कैंटिन के मैन्यू से चिप्स, नूडल्स, कार्बोनेटेड सॉफ्ट ड्रिंक्स, पिज़्जा,बर्गर, केक, बिस्किट,बन,पेस्ट्रीज बाहर कर स्कूलों में पोष्टिक चीजों की बिक्री बढ़ाने को कहा गया है. जिसमें गेहूं की रोटी, पराठा, मल्टी ग्रेन चपाती, चावल की खीर, दही, लस्सी, छाछ, वेज सैंडविच, खिचड़ी, नारियल पानी, शिकंजी जैसे आइटम्स को शामिल करने को कहा है. इसके अलावा स्कूलों की कैंटिंन को साफ-सफाई पर भी ध्यान देना होगा, हाइजीन से जुड़ी चैकिंग भी FDA करेगा.

डिनर में भूलकर भी शामिल न करें ये चीजें, हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां
 
हेल्दी फूड से जुड़ी गाइडलाइंस को लागू करने में प्रैक्टिकल दिक्कतें हैं, क्योंकि कैंटीन चलाने वालों के लिए ट्रेडिशनल फूड फायदेमंद नहीं है और कई बार बच्चों को खुश रखने के लिए पैरेंट्स भी इसे बढ़ावा देते हैं, लेकिन महाराष्ट्र FDA की गाइडलाइंस स्कूल-कॉलेजों के कैंटिन में हेल्दी फूड को जरूर बढ़ावा देगी. बता दें महाराष्ट्र FDA का हेल्दी फूड कैंपेन जागरुकता मिशन के तहत शुरू किया गया है. FDA हेल्दी फूड कैंपेन दिसंबर 2019 तक चलाया जाएगा.