close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बारिश का कहरः मलाड में दीवार गिरने से मरने वालों की संख्या 30 पहुंची

दीवार गिरने से घायल व्यक्ति को तीन दिन पहले उन्हे मलाड के सरकारी अस्पताल से केईएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. यहां पर उनकी तबीयत बिगड़ी और बीती रात उनकी मौत हो गई. 

बारिश का कहरः मलाड में दीवार गिरने से मरने वालों की संख्या 30 पहुंची
फाइल फोटो- रॉयटर्स

मुंबईः मुंबई में बारिश का कहर लगातार जारी है उपनगर मालाड में दीवार गिरने के हादसों में मरने वालों की लोगों की संख्या अब 30 हो गई है. दीवार गिरने की घटना में घायल एक शख्स ने बीती रात केईएम अस्पताल में दम तोड़ दिया. दीवार गिरने की घटना में राजू प्रकाश को गंभीर रुप से घायल हो गए थे. तीन दिन पहले उन्हे मलाड के सरकारी अस्पताल से केईएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. यहां पर उनकी तबीयत बिगड़ी और बीती रात उनकी मौत हो गई. 

बता दें कि पिछले कई दिनों से महाराष्‍ट्र में मॉनसून के चलते हो रही भारी बारिश आफत बनकर आई है. महाराष्ट्र में अलग-अलग जगह देर रात दीवार गिरने की घटनाओं में कई लोगों की मौत हो गई है, जबकि अन्‍य कई घायल हुए है. यह घटनाएं बाउंड्री वॉल गिरने से हादसा हुआ है. राज्‍य में पिछले दो-तीन दिनों से भारी बरसात हो रही है.

मलाड में कुरार गांव इलाके में 2 जुलाई को दीवार गिरने से 13 लोगो की मौत हो गई थी और 11 लोग घायल हो गए थे.  वहीं, पुणे के सिंहगढ़ इंस्टीट्यूट की दीवार गिरने से 6 लोगो की मौत हो गई थी, जबकि 4 लोग घायल हो गए थे. ये सभी मजदूर थे, जो दीवार के किनारे बने झुग्गी में रहते थे. मृतको में 4 मजदूर छत्तीसगढ़ के हैं और दो मध्य प्रदेश के. 

तीसरी घटना कल्‍याण हुई थी जहां स्कूल की दीवार दो घरों पर जा गिरी. इस घटना में 3 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि एक अन्‍य घायल हुए थे. ये हादसा कल्याण के दुर्गाडी परिसर में रात 12.30 बजे के आसपास हुआ जब नेशनल उर्दू स्कूल की दीवार अचानक गिर गई. यह दीवार स्कूल से सटे दो घरों पर जा गिरी. मलबे में दबे 4 लोगों को स्थानीय लोगों, पुलिस और फायरब्रिगेड की मदद से बाहर निकाला गया. मृतक में एक तीन साल का बच्‍चा भी था.

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इन घटनाओं पर दुख जताया है और मुआवजे का ऐलान किया था. सीएम फडणवीस की तरफ से कहा गया था कि अगर जरूरी हो तभी लोग घरों से बाहर निकलें.