आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई से पहले पाक से कोई बातचीत नहीं: सुषमा स्वराज

 उन्होंने कहा, 'हम आतंकवाद पर बात नहीं चाहते, हम उस पर कार्रवाई चाहते हैं. आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते.'

आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई से पहले पाक से कोई बातचीत नहीं: सुषमा स्वराज
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान जब तक अपनी जमीन से चल रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता तब तक भारत की उससे कोई बातचीत नहीं हो सकती . उन्होंने 'बातचीत व आतंकवाद के साथ-साथ नहीं चलने' पर जोर दिया. 

‘इंडियाज वर्ल्ड: मोदी गवर्नमेंट्स फॉरेन पॉलिसी’ पर बातचीत में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आईएसआई और अपनी सेना पर नियंत्रण करने की जरूरत है जो बार-बार द्विपक्षीय रिश्तों को बर्बाद करने पर तुले हैं. उन्होंने कहा, 'हम आतंकवाद पर बात नहीं चाहते, हम उस पर कार्रवाई चाहते हैं. आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते.'

स्वराज से भारत द्वारा बालाकोट में की गई भारतीय हवाई कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी पलटवार के बारे में भी सवाल पूछा गया, इस पर उन्होंने कहा कि भारत ने खास तौर पर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने को निशाना बनाया. 

उन्होंने कहा,'जैश की तरफ से पाकिस्तानी सेना ने हम पर हमला क्यों किया? आप न सिर्फ जैश को अपनी जमीन पर पाल रहे हैं बल्कि उन्हें वित्त पोषित कर रहे हैं और जब पीड़ित देश प्रतिरोध करता है तो आप आतंकी संगठन की तरफ से उस पर हमला करते हैं.' उन्होंने कहा, 'अगर इमरान खान (पाकिस्तानी प्रधानमंत्री) इतने उदार हैं और राजनय हैं, उन्हें हमें मसूद अजहर सौंप देना चाहिए.'

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत के पाकिस्तान से अच्छे रिश्ते हो सकते हैं बशर्ते पड़ोसी देश “अपनी जमीन पर आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करे.”