बुरे फंसे सैम पित्रोदा! बीजेपी नेता तेजिंदर सिंह बग्गा ने दिल्ली पुलिस में दर्ज कराई शिकायत

सिख विरोधी दंगों को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर सैम पित्रोदा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं. पित्रोदा ने हालांकि अपने बयान पर माफी मांग ली है लेकिन विवाद से उनका पीछा नहीं छूट रहा.

बुरे फंसे सैम पित्रोदा! बीजेपी नेता तेजिंदर सिंह बग्गा ने दिल्ली पुलिस में दर्ज कराई शिकायत
बग्गा ने पित्रोदा के खिलाफ राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में भी शिकायत दर्ज कराई है.

नई दिल्ली: सिख विरोधी दंगों को लेकर की गई टिप्पणी को लेकर कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं. पित्रोदा ने हालांकि अपने बयान पर माफी मांग ली है लेकिन विवाद से उनका पीछा नहीं छूट रहा. दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर सिंह बग्गा ने शुक्रवार को पित्रोदा के खिलाफ सिख समुदाय की धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप लगाते हुए दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

बग्गा ने पित्रोदा के खिलाफ राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में भी शिकायत दर्ज कराई है.  बग्गा ने कहा, "मैंने संसद मार्ग, पुलिस स्टेशन के साथ-साथ राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में भी शिकायत दर्ज कराकर पित्रोदा के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. उनके बयान से सिख समुदाय की भावनाएं आहत हुई हैं.  

अल्पसंख्यक आयोग ने पित्रोदा से बिना शर्त माफी मांगने को कहा
राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने 1984 के सिख विरोधी दंगों के संदर्भ में कथित तौर पर विवादित बयाद देने के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी सैम पित्रोदा को शुक्रवार को नोटिस जारी कर कहा कि वह इस संदर्भ में स्पष्टीकरण दें और सिख समुदास से तत्काल बिना शर्त माफी मांगें. 

बीजेपी नेता तेजिंदर पाल बग्गा की शिकायत पर पित्रोदा को भेजे नोटिस में सिख विरोधी दंगे को ‘मानवता के इतिहास पर कलंक’ करार देते हुए आयोग के सदस्य आतिफ रशीद ने कहा, "अल्संख्यक आयोग अधिनियम की धारा 9 के तहत आयोग आपको निर्देश देता है कि गत नौ मई के अपने बयान पर स्पष्टीकरण दें." नोटिस में रशीद ने कहा, "आपको यह भी निर्देशित किया जाता है कि आप सिख समुदाय से तत्काल बिना शर्त माफी मांगे." 

 

खबरों के मुताबिक पित्रोदा ने गुरुवार को कहा था कि अब क्या है 84 का? आपने (नरेंद्र मोदी) पांच साल में क्या किया, उसकी बात करिए. 84 में जो हुआ, वो हुआ. इस मामले पर विवाद खड़ा होने के बाद पित्रोदा ने कहा कि भाजपा अपनी नाकामियां छिपाने के लिए उनके शब्दों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रही है.

अब पित्रोदा ने अपने बयान पर माफी मांग ली है. उन्होंने कहा, "मै जो कहना चाहता था वह यह की जो हुआ बुरा हुआ, मैं अपने दिमाग में 'बुरा' का अनुवाद नहीं कर पाया. मुझे दुख है कि मेरी टिप्पणी का गलत अर्थ निकाला गया. मेरी हिंदी कमजोर है. मैं माफी मांगता हूं." 

(इनपुट भाषा से भी)