CM योगी ने भगवा धारण किया है, ये भगवा देश की धार्मिक परंपरा है, इसका ध्यान रखें: प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी ने यूपी पुलिस और उत्तरप्रदेश सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यूपी सरकार और पुलिस ने अराजकता फैलाई है.

CM योगी ने भगवा धारण किया है, ये भगवा देश की धार्मिक परंपरा है, इसका ध्यान रखें: प्रियंका गांधी
यूपी सरकार और पुलिस ने अराजकता फैलाई है: प्रियंका गांधी

लखनऊ: सोमवार को राजधानी लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आई कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने योगी सरकार और यूपी पुलिस पर जमकर निशाना साधा.

यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से शिकायत कर लौटी प्रियंका गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि यूपी सरकार और पुलिस ने अराजकता फैलाई है. बिजनौर में सीएए के विरोध में हुई हिंसा के दौरान दो बच्चों की मौत हो गई. जिनके परिवार से मिलने गई थी. वहां, पहले बच्चों को धमकाया गया, साथ ही परिवार को भी धमकी दी.

प्रियंका गांधी ने कहा कि आज सुबह हमारी तरफ से एक चिट्ठी राज्यपाल को भेजी गई है. वो एक दस्तावेज है. बिजनौर हिंसा में मारे गए दो बच्चों पर प्रियंका गांधी ने कहा कि अनस और सुलेमान में से एक कॉफी मशीन चलाता था. वो दूध लेने गली से आगे गया, लेकिन वापस नहीं लौटा. जब पिता ने ढूंढा तो उसकी लाश मिली. प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया कि घरवालों को FIR नहीं करने के लिए धमकाया गया. परिवार वालों को धमकाया गया कि FIR नहीं करनी है. ना ही कोई कार्रवाई करनी है. ये घटना बिजनौर की है, जहां मैं खुद गई थी.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि दारापुरी ने फेसबुक पोस्ट डाला था, उन्हें घर से गिरफ्तार किया गया. उनकी 75 साल की पत्नी बीमार है और डरी हुई है. कांग्रेस की प्रवक्ता सादब जफर सड़क पर खड़ी होकर वीडियो बना रही थी, उसे गिरफ्तार कर लिया गया. इन दोनों का नाम उस लिस्ट में है, जिसमें 48 लोगों को रखा गया है. जिनपर भयानक केस लादे गए हैं. वाराणसी में भी छात्र शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, उन्हें भी गिरफ्तार किया गया.

प्रियंका गांधी ने कहा कि ये वो केस हैं, जिनके बारे में हम जानते हैं. लेकिन बहुत सारे लोग गुमनाम तरीके से जेलों में हैं. हमारी चिट्ठी में तमाम मिसालें हैं, जिसमें पुलिस गलत काम कर रही है. लोगों को पीट रही है, तोड़ फोड़ कर रही है. प्रियंका गांधी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सब कुछ सीएम के उस बयान की वजह से हुआ, जिसमें उन्होंने बदला लेने की बात की है.

शायद यह देश में पहली बार ऐसा हुआ है जिसमें एक सीएम ने ऐसा बदला लेने की बात की हो. प्रियंका गांधी ने कहा कि ये राम और कृष्ण की धरती है. योगी जी ने भगवा धारण किया है. ये भगवा देश की धार्मिक परंपरा है, इसका ध्यान रखें. ये भगवा आपका नहीं, हिन्दुस्तान के धर्म का चिन्ह है. जिसमें हिंसा का स्थान नहीं है. 

प्रियंका गांधी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बदला लेने का जो बयान दिया, उसी पर पुलिस कायम है. भगवा कृष्ण भगवान का वेश है, भगवान राम करुणा के प्रतीक हैं. शिव जी की बारात में सब नाचते हैं. इस देश में बदले की कोई परंपरा नहीं है. श्री कृष्ण ने अपने प्रवचन में कभी बदले की बात नहीं की. योगी ने भगवा धारण किया, ये भगवा आपका नहीं हैं. भगवा देश की आध्यात्मिक आस्था का चिन्ह है. इसमें बदले की भावना की कोई जगह नहीं है.

प्रियंका गांधी ने कहा कि बीजेपी का जागरूकता अभियान नहीं है, झूठों का अभियाम है. ये कानून संविधान के खिलाफ है. कांग्रेस शासित राज्यों में लागू नहीं होगा. दूसरे सीएम ने भी कहा है लागू नहीं होगा. प्रियंका गांधी ने कहा कि वैध नागरिकता का प्रमाणपत्र नहीं है एनआरसी. ये बहाना है. ये लागू नहीं हो सकता क्योंकि ये कानून जनता ही लागू नहीं करने देगी.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रियंका गांधी वाड्रा ने सरकार से 4 मांगे रखी. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के गृह विभाग और डीजीपी द्वारा तुरंत आदेश जारी कर पुलिस और सरकार द्वारा किए जा रही हिंसात्मक, गैरकानूनी और अपराधिक कार्रवाई को तुरंत रोका जाए. हाईकोर्ट के मौजूदा जज या फिर रिटायर्ड हाईकोर्ट जज की निगरानी में शांतिपूर्ण ढंग से विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लगाए मुकदमों की सत्यता की निष्पक्ष जांच का आदेश दिया जाए. न्यायिक प्रक्रिया पूरी किए बिना संपत्तियों को सील करने, संपत्ति जब्त करने और अन्य दंडात्मक कार्रवाई पर तुंरत रोक लगाई जाए. शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थी जो निर्दोष हैं. उन पर किसी भी प्रकार की कानूनी कार्रवाई नहीं की जाए.

 

उन्होंने कहा कि मेरी सुरक्षा का सवाल बड़ा नहीं है. प्रदेश की सुरक्षा और यहां के लोगों की सुरक्षा बड़ी है. उन्होंने स्कूटी चलान के मुद्दे पर कहा कि ये कोई बात नहीं, चलान भर देंगे.

मेरी सुरक्षा से और उससे जुड़े विवाद से पब्लिक का कोई लेना देना नहीं है. देश और यूपी की सुरक्षा जरूरी है. जो हिंसा हुई इसके लिए जरूरी है कि पहले जांच हो, सरकार जो कार्रवाई कर रही है वो बिना जांच के कर रही है.

प्रियंका गांधी सीआरपीएफ के सवाल पर कुछ कहने से मना करते हुए कहा कि ये फिज़ूल की बात है. आज जनता का मुद्दा उठाने की जरूरत है. जहां-जहां महिलाओं के खिलाफ अत्याचार हो रहे हैं, मैं उसे उठाने का काम कर रही हूं.

वहीं इससे पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए वरिष्ठ कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा कि नौजवानों ने शांति पूर्वक एक संघर्ष छेड़ा है. हमारा उनको सहयोग है, लेकिन पुलिस ने उन्हें उत्पीड़ित किया है. उसमें हमारी पार्टी से जुड़े वकीलों की तरफ से मदद की जायेगी.

सलमान खुर्शीद ने कहा कि हम हाइकोर्ट में भी दस्तावेजों को लेकर जाएंगे. जिस तरह का दमन यूपी में हो रहा है, उसमें कोर्ट संज्ञान ले. ताकि यूपी या फिर किसी और राज्य में ऐसा ना हो.