BJP सांसद की पिटाई मामले में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी और उनकी बेटी पर 5 FIR, सीओ सस्पेंड

शनिवार को यूपी के प्रतापगढ़ जिले में गरीब कल्याण मेला में पहुंचे भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता को कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी के समर्थकों ने पीट दिया. भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जमकर मारपीट हुई. भाजपा सांसद के कपड़े भी फाड़ दिए गए और उनकी गाड़ी पर पथराव कर तोड़फोड़ की गई.

BJP सांसद की पिटाई मामले में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी और उनकी बेटी पर 5 FIR, सीओ सस्पेंड
प्रतापगढ़ में कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी के समर्थकों ने भाजपा सांसद संगम लाल गुप्ता को पीट दिया.

प्रतापगढ़: प्रतापगढ़ में बीजेपी सांसद संगमलाल गुप्ता और पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी के समर्थकों के बीच शनिवार को हुई मारपीट मामले में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, उनकी विधायक पुत्री आराधना मिश्रा मोना और समर्थकों के खिलाफ 4 और एफआइआर दर्ज हुई हैं. एक एफआइआर घटना वाले दिन भी दर्ज हुई थी. इसके अलावा 27 नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ भी पुलिस ने FIR दर्ज की है. 

भाजपा ने जितिन प्रसाद, संजय निषाद, अंजान भुर्जी और वीरेन्द्र गुर्जर को MLC मनोनीत​ किया

आपको बता दें कि शनिवार को यूपी के प्रतापगढ़ जिले में गरीब कल्याण मेला में पहुंचे भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता को कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी के समर्थकों ने पीट दिया. भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जमकर मारपीट हुई. भाजपा सांसद के कपड़े भी फाड़ दिए गए और उनकी गाड़ी पर पथराव कर तोड़फोड़ की गई. सुरक्षाकर्मियों ने किसी तरह सांसद को कार्यक्रम स्थल से बाहर निकाला.

संत परमहंस का ऐलान: हिन्दू राष्ट्र घोषित नहीं हुआ भारत तो 2 अक्टूबर को सरयू में ले लेंगे जल समाधि

करीब घंटेभर चले बवाल में प्रमोद तिवारी के साथ भी धक्कामुक्की हुई. कांग्रेस विधायक और प्रमोद तिवारी की बेटी आराधना मिश्र (मोना) का मोबाइल फोन गायब हो गया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना का संज्ञाल लिया तो पुलिस और प्रशासन हरकत में आया. लालगंज सीओ जगमोहन को निलंबित कर दिया गया है. इस मामले में प्रमोद और अराधना मिश्रा मोना पर कुल 5 एफआईआर दर्ज हो गई हैं.

चुनावी साल में यूपी के किसानों के लिए खुशखबरी, योगी सरकार ने 25 रुपए बढ़ाया गन्ने का रेट 

सीओ लालगंज जगमोहन पर आरोप है कि दो राजनीतिक पार्टियों के समर्थकों के कार्यक्रम में शामिल होने की बात पहले से तय थी. इसके बावजूद सीओ ने इसे गंभीरता से नहीं लिया. कार्यक्रम स्थल पर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए वहां लगने वाले पुलिसबल का अनुमान सीओ लालगंज नहीं लगा पाए. उनकी इस लापरवाही से कार्यक्रम स्थल सांगीपुर ब्लॉक सभागार और उसके बाहर फोर्स की कमी हो गई, जिससे दोनों पक्षों में मारपीट और तोड़फोड़ हुई.

Yogi Cabinet Expantion: जितिन प्रसाद ने ली कैबिनेट मंत्री की शपथ, अन्य 6 बनाए गए राज्यमंत्री

इससे सीओ की लापरवाही, अकर्मण्यता व अदूरदर्शिता उजागर हुई. उनकी इस लापरवाही से पुलिस विभाग की छवि धूमल हुई. उक्त आधार पर सीओ लालगंज को निलंबित कर दिया गया है. साथ ही उनके खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई के भी निर्देश दिए गए हैं. सीओ के अलावा कई अन्य पुलिसवालों पर भी कार्रवाई की अफवाहें सोशल मीडिया पर चलती रहीं. हालांकि प्रभारी एसपी/डीआईजी एलआर कुमार ने सीओ के अलावा किसी और पुलिसवालों के खिलाफ कार्रवाई की पुष्टि नहीं की.

WATCH LIVE TV