close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यदि मदरसे बंद नहीं हुए तो आधे से ज्‍यादा मुस्लिम ISIS समर्थक हो जाएंगे: वसीम रिजवी

उन्‍होंने इसके बजाय हाई स्कूल के बाद धार्मिक तालीम के लिए मदरसे जाने के विकल्प का सुझाव दिया.

यदि मदरसे बंद नहीं हुए तो आधे से ज्‍यादा मुस्लिम ISIS समर्थक हो जाएंगे: वसीम रिजवी
वसीम रिजवी उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन हैं.(फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सेंट्रल शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने एक बार फिर मदरसों को बंद करने की मांग दोहराई है. पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर वसीम रिज़वी ने प्राथमिक मदरसों को बंद करने को कहा है. वसीम रिज़वी ने लिखा कि मदरसों में बच्चों को बाकियों से अलग कर कट्टरपंथी सोच के तहत तैयार किया जाता है. यदि प्राथमिक मदरसे बंद ना हुए तो 15 साल में देश का आधे से ज्यादा मुसलमान आईएसआईएस का समर्थक हो जाएगा. उन्‍होंने इसके बजाय हाई स्कूल के बाद धार्मिक तालीम के लिए मदरसे जाने के विकल्प का सुझाव दिया.

इससे पहले शिया वक्फ वोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने पिछले दिनों कहा था कि आतंकवाद को मदरसे से जोड़कर बयान देने के कारण सोशल मीडिया पर उनको धमकियां मिल रही हैं. इस कारण उन्‍होंने अपने लिए कब्र बनवा ली है, जिस पर बकायदा उन्होंने अपना नाम भी लिखा दिया है. वसीम ने कहा कि उन्होंने राजधानी लखनऊ के तालकटोरा में अपने वालिद (पिता) की कब्र के पास अपनी कब्र बनवा ली है. ऐसा करने के पीछे का कारण बताते हुए रिजवी ने कहा कि आजकल उन्हें सोशल मीडिया पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है. उन्होंने कहा, "मैं मरने से नहीं डरता, मैं मरने को तैयार हूं, लेकिन मैंने कोई गलत बयान नहीं दिया".

अयोध्या विवाद पर वसीम रिजवी ने PM को भेजा फॉर्मूला, बताया कैसे मंदिर-मस्जिद दोनों बनेंगे

उन्होंने कहा था कि 'कुछ मरदसों में आतंकवाद को बढ़ावा देने वाली गतिविधियां हैं, जो बंद होनी चाहिए. यह वह नहीं कह रहे हैं, यह तो साफ-साफ सरकार की रिपोर्ट कह रही है. उन्होंने तो बस मुस्लिम समाज के बच्चों की नस्ल सुधार के लिए ऐसा कहा'. वसीम रिजवी ने कहा था कि लेकिन कुछ लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए ऐसे मदरसे चलाना चाहते हैं, इसलिए मुस्लिम समाज को भड़काकर समाज को उनका दुश्मन बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि अब सोशल मीडिया पर पूरे देशभर के मुस्लिम समाज से उन्हें धमकियां मिल रही हैं. उन्होंने कहा कि वह मरने को तैयार हैं, इसके उन्हें कब्र की जरूरत थी, इसलिए उन्होंने तालकटोरा स्थित कब्रिस्तान में अपने वालिद की कब्र के पास अपनी कब्र बनवा ली है.

(इनपुट: एजेंसी ANI से भी)