Mathura: शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा पढ़ने का ऐलान, पुलिस ने साधु को हिरासत में लिया
topStories1hindi1472397

Mathura: शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा पढ़ने का ऐलान, पुलिस ने साधु को हिरासत में लिया

Shahi Idgah: पुलिस ने मथुरा स्थित शाही ईदगाह मस्जिद (Mathura Shahi Idgah Masjid) में जल चढ़ाने जा रहे एक व्यक्ति को पुलिस ने हिरासत में लिया है. वो शख्स मथुरा में लड्डू गोपाल पर जल चढ़ाने की जिद कर रहा था.

Mathura: शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा पढ़ने का ऐलान, पुलिस ने साधु को हिरासत में लिया

High alert in Uttar Pradesh: 6 दिसंबर की बरसी को लेकर अयोध्या समेत पूरे उत्तर प्रदेश में सुरक्षा और बढ़ा दी गई है. इस बीच अखिल भारत हिन्दू महासभा (Akhil Bharatiya Hindu Mahasabha) ने आज (6 दिसंबर) मथुरा शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ करने की घोषणा की है, जिसके बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है. वहीं, पुलिस ने शाही ईदगाह (Mathura Shahi Idgah Masjid) में जल चढ़ाने जा रहे एक व्यक्ति को पुलिस ने हिरासत में लिया है. वो शख्स मथुरा में लड्डू गोपाल पर जल चढ़ाने की जिद कर रहा था.

मथुरा में लगाई गई धारा 144

हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) ने मथुरा की शाही ईदगाह मस्जिद में हनुमान चालीसा पाठ करने का ऐलान किया है, जिसके बाद धारा 144 लगाई है. इस दौरान किसी के भी जमा होने पर रोक लगा दी गई है. मथुरा शहर को 2 सुपर जोन, 4 जोन और 8 सेक्टर में विभाजित किया गया है. बताया जा रहा है कि सुपर जोन के प्रभारी आईपीएस अधिकारी तैनात रहेंगे, जबकि जोन के प्रभारी अपर पुलिस अधीक्षक और सेक्टर में सीओ तैनात होंगे.

6 दिसंबर की बरसी पर अयोध्या से मथुरा तक कड़ी सुरक्षा

6 दिसंबर यानी अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने की बरसी को लेकर अयोध्या से मथुरा तक में सुरक्षा और बढ़ा दी गई है और बाहर से आने वाली गाड़ियों की चेकिंग की जा रही है. अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था सख्त कर दी गई है. यूपी पुलिस के साथ केंद्रीय सुरक्षाबलों के जवानों की तैनाती की गई है. अयोध्या में होटल और धर्मशालाओं की चेकिंग की जा रही है. मथुरा प्रशासन ने जिले में बिना अनुमति के किसी भी राजनीतिक, सामाजिक या धार्मिक संगठन के पांच या पांच से ज्यादा लोगों के जमा होने, धरना देने, प्रदर्शन करने पर रोक लगा दी है. ये रोक अगले साल 28 जनवरी तक जारी रहेगी.

दरअसल, आज 6 दिसंबर 1992 में विवादित ढांचा गिराए जाने की 30वीं बरसी है. लंबे समय तक कोर्ट में सुनवाई के बाद 9 नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने अपना फैसला सुनाया. इस फैसले के बाद अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर का निर्माण भी शुरू हो चुका है तो वहीं मस्जिद निर्माण की भी तैयारी भी शुरू हो गई है.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की ज़रूरत नहीं. 

Trending news