close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ममता Vs CBI: अवमानना याचिका पर SC में सुनवाई आज, CBI डायरेक्ट को देना है हलफनामा

सुप्रीम कोर्ट ने CBI की अवमानना याचिका पर पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता के पुलिस कमिश्नर को अवमानना नोटिस जारी किया था.

ममता Vs CBI: अवमानना याचिका पर SC में सुनवाई आज, CBI डायरेक्ट को देना है हलफनामा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: सारधा चिटफंड जांच में बाधा डालने के लिए पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव मलय कुमार डे, पुलिस महानिदेशक वीरेंद्र और कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ सीबीआई की अवमानना याचिका पर सुप्रीम कोर्ट आज सुनवाई करेगा. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सीबीआई ने अवमानना चलाने को लेकर जो दलील पेश की है वो अधूरी है, ऐसे में सीबीआई डायरेक्ट खुद दो हफ्ते में हलफनामा दाखिल करें. दरअसल, पश्चिम बंगाल चीफ सेक्रेट्री मलय डे, DGP वीरेन्द्र कुमार, कोलकाता कमिश्नर राजीव कुमार ने अवमानना नोटिस के जवाब में सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी थी.

आपको बता दें कि पिछली सुनवाई में सीबीआइ की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होना पड़ेगा. हालांकि, कोर्ट ने यह भी स्पष्ट कर दिया था कि फिलहाल उनकी गिरफ्तारी नहीं होगी. पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार शिलांग में सीबीआइ के सामने पेश होंगे. सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की अवमानना याचिका पर पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, डीजीपी और कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को अवमानना नोटिस जारी किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने तीनों अधिकारियों से अवमानना पर 18 फरवरी तक जवाब देने को कहा था. कोर्ट ने कहा था कि अगर जवाब देखने के बाद जरूरत लगी तो अधिकारियों को 20 तारीख को निजी तौर पर पेश होना होगा, अगर ऐसा होता है तो 19 को सुप्रीम कोर्ट से उन्हें सूचना दी जाएगी. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सवाल पूछा था कि कोलकाता कमिश्नर राजीव कुमार को पूछताछ में दिक्कत क्या है? चीफ जस्टिस ने कहा था कि राजीव कुमार को पूछताछ के लिए सीबीआइ के समक्ष पेश होना चाहिए और जांच में सहयोग करना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम पुलिस आयुक्त को खुद को उपलब्ध कराने और पूरी तरह से सहयोग करने का निर्देश देंगे, हम बाद में अवमानना याचिका से निपटेंगे.