ZEE जानकारी: संसद में पीएम मोदी ने दिया दमदार भाषण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लोकसभा को चुनावी भाषण का थियेटर बना दिया और एक घंटे 40 मिनट लंबा भाषण देकर प्राइम टाइम में पूरे देश को संबोधित कर दिया .

 ZEE जानकारी:  संसद में पीएम मोदी ने दिया दमदार भाषण

आज दिल्ली में बहुत बारिश हुई और ओले पड़े लेकिन लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आंकड़ों वाले ओले बरस रहे थे और इन ओलों से कांग्रेस कुछ देर के लिए जम गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लोकसभा को चुनावी भाषण का थियेटर बना दिया और एक घंटे 40 मिनट लंबा भाषण देकर प्राइम टाइम में पूरे देश को संबोधित कर दिया . इस भाषण का थीम था.. 55 साल का सत्ताभोग बनाम 55 महीने का सेवा भाव . 

प्रधानमंत्री मोदी के दमदार भाषण को सुनकर, विपक्ष का चेहरा उतर गया. इस भाषण में स्वामी विवेकानंद से लेकर महात्मा गांधी और डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जैसे महापुरुष थे . इस भाषण में शायरी थी, फिल्मी गाने थे, भारी मात्रा में कटाक्ष थे और इन सबके पीछे प्रधानमंत्री मोदी का ज़बरदस्त होमवर्क था, जो आंकड़ों से भरपूर था . उन्होंने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों के जवाब दिये . चाहे रफाल का मुद्दा हो, बेरोज़गारी की बात हो... या फिर संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट करने का आरोप हो... इन सभी विषयों पर उन्होंने आक्रामक तेवरों के साथ विपक्ष पर हमला किया. 

आमतौर पर किसी भाषण का विश्लेषण शुरू से लेकर अंत तक होता.. लेकिन आज नरेंद्र मोदी के इस भाषण को समझने के लिए सबसे पहले आपको ये देखना चाहिए कि उन्होंने अपना भाषण खत्म कैसे किया. सबसे पहले आप इस भाषण का आखिरी पन्ना देखिए

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले... प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई चुनावी शब्दावली तैयार कर दी है . अगले दो-तीन महीनों तक... चुनाव में आप बार-बार इन शब्दों और वाक्यों को सुनेंगे . आज प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में महागठबंधन को एक नया नाम दिया है.. और उसे महा मिलावट कहा है . राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक नारा दिया था और वो नारा था - चौकीदार चोर है.. आज प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल गांधी के उस नारे का भी जवाब दिया और कहा - उल्टा चोर चौकीदार को डांटे. 

रफाल के मुद्दे पर उन्होंने कांग्रेस पर सबसे बड़ा और गंभीर आरोप लगाया और कहा कि कांग्रेस चाहती ही नहीं है कि भारत की वायुसेना मज़बूत हो . और कांग्रेस के ज़माने में कोई भी रक्षा सौदा, बिना दलाली के नहीं होता था . इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी पर सबसे ज़्यादा आरोप लगाने वाले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मौजूद नहीं थे. हालांकि उनकी मां सोनिया गांधी मौजूद थीं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सरकार ने ज़ीरो टॉलरेंस की नीति पर कम किया है . उन्होंने बिना नाम लिए रॉबर्ट वाड्रा की तरफ भी इशारा किया. और कहा कि अब लोगों की बेनामी संपत्ति जब्त की जा रही है इसलिए कुछ लोग बहुत बेचैन है . 

बजट सत्र, लोकसभा चुनाव से पहले संसद का आखिरी सत्र है.. इसलिए आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास चुनाव से पहले, विपक्ष पर प्रहार करने और अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाने का सबसे बड़ा मौका था और उन्होंने इस मौके का पूरा फायदा उठाया. इस भाषण ने 2019 के लोकसभा चुनाव का एजेंडा सेट कर दिया है. इसलिए आज इसे देखना और समझना आप सबके लिए बहुत ज़रूरी है.