close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE Jankari: पूरी दुनिया के 75% बाघ भारत में और डिस्‍कवरी पर पीएम मोदी का नया रूप

भारत में बाघों की संख्या 2 हज़ार 967 है. 2014 में ये संख्या 2 हज़ार 226 बाघों की थी. यानी 4 साल में बाघों की आबादी 33 प्रतिशत से ज़्यादा बढ़ी है. आज से करीब 13 साल पहले देश में सिर्फ 1 हज़ार 411 टाइगर थे, जो 2014 तक बढ़कर 2 हज़ार 226 हो गए. लेकिन पिछले चार वर्षों में टाइगर की आबादी तेज़ी से बढ़ी है.

ZEE Jankari: पूरी दुनिया के 75% बाघ भारत में और डिस्‍कवरी पर पीएम मोदी का नया रूप

अब हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'एक था टाइगर' से 'टाइगर जिंदा है'...वाली सोच का विश्लेषण करेंगे.  आज International Tiger Day है.

और आपको ये जानकर अच्छा लगेगा, कि दुनियाभर में बाघों की कुल आबादी के लगभग 75 फीसदी बाघ आपके अपने देश भारत में है. आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में बाघों की संख्या पर एक आधिकारिक रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में बाघों की संख्या 2 हज़ार 967 है. 2014 में ये संख्या 2 हज़ार 226 बाघों की थी. यानी 4 साल में बाघों की आबादी 33 प्रतिशत से ज़्यादा बढ़ी है. आज से करीब 13 साल पहले देश में सिर्फ 1 हज़ार 411 टाइगर थे, जो 2014 तक बढ़कर 2 हज़ार 226 हो गए. लेकिन पिछले चार वर्षों में टाइगर की आबादी तेज़ी से बढ़ी है. देश में बाघों की आबादी के आंकलन के लिए इससे पहले तीन बार सर्वे हो चुके हैं. पहला 2006 में, दूसरा 2010 और तीसरा 2014 में. हालांकि इस बार का सर्वे बिल्कुल भी आसान नहीं था.

इसके लिए पूरे देश में करीब 3 लाख 81 हज़ार वर्ग किलोमीटर जंगलों में सर्वे किया गया. वन विभाग के कर्मचारी 5 लाख किलोमीटर से ज़्यादा पैदल चले. क़रीब सवा तीन लाख जगहों से बाघों का मल जमा किया गया. देश भर में 141 स्थानों पर 26 हज़ार से ज़्यादा Camera Trap लगाए गए. इन कैमरों की मदद से साढ़े 3 करोड़ Photographs लिए गए.

साल 2006 से पहले पूरे देश में बाघों की गिनती उनके पद चिन्हों के आधार पर होती थी. फिर कैमरे और नई टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया. इस बार कैमरे से ली गई तस्वीरों की Geo-tagging की गई. साधारण भाषा में कहें, तो इसकी मदद से बाघों की सही Location की जानकारी इकट्ठा की गई. इसी के बाद बाघों की आबादी का सही आंकलन हो पाया है. इसलिए आप इस सर्वे को अपने आप में दुनिया के सबसे बड़े Wildlife सर्वे में से एक कह सकते हैं.

2010 में St Petersburg Declaration में भारत सहित दुनिया के 13 देशों ने बाघों की आबादी दोगुनी करने की बात कही थी और इसके लिए वर्ष 2022 तक का लक्ष्य निर्धारित किया गया था. लेकिन खुशी की बात ये है, कि भारत ने इस लक्ष्य को तीन साल पहले ही हासिल कर लिया है. हमारा मानना है कि आपको नेताओं, फिल्मी सितारों और उद्योगपतियों के बारे में जानकारियां रखने के साथ-साथ भारत की पहचान कहलाने वाले Tigers के बारे में भी पता होना चाहिए.

बाघों के संदर्भ में प्रधानमंत्री द्वारा कही गई बात, मील का पत्थर साबित हो सकती है. आपने अक्सर इंसानों के पलायन के बारे में कई बार सुना होगा. जब कोई शहर या मोहल्ला हिंसा या अन्य कारणों की वजह से रहने लायक नहीं रहता तो वहां बसे इंसान पलायन कर जाते हैं और जब पलायन कर चुके लोगों को वापस उसी जगह बसाने की कोशिश की जाती है..तो उसे घर वापसी भी कहा जाता है. बाघों की बढ़ती आबादी को आप उनके घर यानी जंगलों वाली घर वापसी भी कह सकते हैं. वैसे आज सिर्फ भारत के बाघ दुनियाभर में Trend नहीं कर रहे. बल्कि आज 135 करोड़ से ज़्यादा की आबादी वाले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी Trend कर रहे हैं. क्योंकि दुनिया ने नरेंद्र मोदी का एक नया रुप Discover किया है. एक अंतर्राष्ट्रीय चैनल ने नरेंद्र मोदी का 45 सेकेंड का Video जारी किया है.  जिसमें उनका एक ऐसा अवतार दिखाई दे रहा है. जो आपने आज से पहले कभी नहीं देखा होगा. पहले आप ये Video देखिए.

Wild Life पर आधारित इस टीवी कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए तेवर को आप उनका Cool Look भी कह सकते हैं और इसी के बाद Social Media पर ये चर्चा शुरु हो गई, कि क्या भारत के प्रधानमंत्री, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और Russia के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की Leauge में शामिल हो गए हैं जिस कार्यक्रम के लिए नरेंद्र मोदी जंगलों की सैर करते दिखाई दिए. जुगाड़ वाले नाव में बैठकर नदी में उतरे. बांस की मदद से हथियार बनाते दिखे.
 
उसी कार्यक्रम में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा भी शामिल हो चुके हैं. और ये बात है साल 2015 की. यानी आज से ठीक चार साल पहले. जब बराक ओबामा बतौर राष्ट्रपति ALASKA के घने जंगलों में Adventure पर निकले थे. नरेंद्र मोदी इस Show में भाग लेने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं.  

ठीक इसी तरह Russia के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भी अपने Cool अवतार के लिए पहचाने जाते हैं. आप उन्हें Cool Club का सबसे मशहूर सदस्य भी कह सकते हैं. समय-समय पर व्लादिमीर पुतिन की जंगलों में सैर वाली तस्वीर सामने आती रहती हैं. इलाका कितना भी ख़तरनाक क्यों ना हो, पुतिन को नदियों या समुद्र में उतरने से डर नहीं लगता. इसके अलावा वो Ice Hockey खेलते हैं. Russia की जूडो टीम के साथ अभ्यास करते हैं और उनकी बड़ी Fan Following भी है.

भारत सहित पूरी दुनिया में Fan Following के लिहाज़ से नरेंद्र मोदी किसी से कम नहीं हैं, लेकिन आज से पहले तक नरेंद्र मोदी के लिए किसी ने Cool शब्द का इस्तेमाल नहीं किया होगा. लेकिन इन तस्वीरों के सामने आने के बाद, ये कहा जा सकता है कि भारत के प्रधानमंत्री ने औपचारिक तौर पर ओबामा और पुतिन वाले Cool Club को Join कर लिया है. इसे आप दुनिया के ताकतवर देशों के नेताओं का अनौपचारिक अवतार भी कह सकते हैं.