पुरुषों के लिए वरदान साबित होगा ये इंजेक्शन, एक बार लगाने के बाद 13 साल नहीं बन पाएंगे पिता

डॉक्टरों की मानें तो इस इंजेक्शन की सफलता की दर 95 से ज्यादा है. डॉक्टरों का कहना है कि इस इंजेक्शन की खास बात ये है कि इसको लगवाने के बाद यह 13 साल तक काम करेगा. 

पुरुषों के लिए वरदान साबित होगा ये इंजेक्शन, एक बार लगाने के बाद 13 साल नहीं बन पाएंगे पिता
सांकेतिक चित्र

नई दिल्ली : वक्त के साथ-साथ बदलते साइंस ने भी काफी तरक्की कर ली है. वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कॉन्ट्रासेप्टिव (गर्भनिरोधक) इजात किया है, जिससे पुरुषों को नसबंदी की आवश्यकता नहीं होगी. भारतीय वैज्ञानिकों ने मेल कॉन्ट्रासेप्टिव यानी गर्भनिरोधक इंजेक्शन को विकसित किया है. इस इंजेक्शन को लगाने के बाद किसी भी पुरुष को अब नसबंदी ऑपरेशन करवाने की जरुरत नहीं पड़ेगी.

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ICMR की अगुवाई में बने इस इंजेक्शन का ट्रायल भी पूरा हो चुका है. रिपोर्ट्स की मानें तो इस इंजेक्शन के ट्रायल की रिपोर्ट को स्वास्थ्य मंत्रालय को सौंप दिया गया है. अगर स्वास्थ्य मंत्रालय इसको हरी झंडी दे दी जाती है, तो इसे जल्द ही मार्केट में उपलब्ध कराया जाएगा. 

क्या कहते हैं डॉक्टर्स
ICMR के साइंटिस्ट डॉक्टरों की मानें तो यह रिवर्सिबल इनबिशन ऑफ स्पर्म अंडर गाइडेंस (RISUG) है, जो एक तरह का गर्भनिरोधक इंजेक्शन है. उन्होंने बताया कि अब तक पुरुषों को स्पर्म का ट्रांजेक्शन रोकने के लिए गर्भनिरोधक ऑपरेशन की आवश्यकता पड़ती थी, लेकिन इस इंजेक्शन के आने के बाद पुरुषों को किसी भी तरह की सर्जरी की आवश्यकता नहीं होगी. 

13 साल तक करेगा काम
डॉक्टरों की मानें तो इस इंजेक्शन की सफलता की दर 95 से ज्यादा है. डॉक्टरों का कहना है कि इस इंजेक्शन की खास बात ये है कि इसको लगवाने के बाद यह 13 साल तक काम करेगा. 

ऐसे काम करता है इंजेक्शन 
डॉक्टर शर्मा ने बताया कि आईआईटी खड़गपुर के वैज्ञानिक डॉक्टर एस के गुहा ने इस इंजेक्शन में इस्तेमाल होने वाले ड्रग्स की खोज की थी. यह एक तरह का सिंथेटिक पॉलिमर है. सर्जरी में जिन दो नसों को काट कर इसका इलाज किया जाता था, इस प्रोसीजर में उसी दोनों नसों में यह इंजेक्शन दिया जाता है, जिसमें स्पर्म ट्रैवल करता है. इसलिए इस प्रोसीजर में दोनों नसों में एक एक इंजेक्शन दिया जाता है. डॉक्टर ने कहा कि 60 एमएल का एक डोज होगा. 

उन्होंने कहा कि इंजेक्शन के बाद निगेटिव चार्ज होने लगता है और स्पर्म टूट जाता है, जिससे फर्टिलाइजेशन यानी गर्भ नहीं ठहरता. डॉक्टर ने कहा कि पहले चूहे, फिर खरगोश और अन्य जानवारों पर इसका ट्रायल पूरा होने के बाद इंसानों पर इसका क्लिनिकल ट्रायल किया गया. 303 लोगों पर इसका क्लिनिकल ट्रायल फेज वन और फेज टू पूरा हो चुका है. इसके टॉक्सिसिटी पर खास ध्यान रखा गया है, जिसमें जीनोटॉक्सिसिटी और नेफ्रोटॉक्सिसिटी वगैरह क्लियर हैं. 97.3 पर्सेंट तक दवा को ऐक्टिव पाया गया और 99.2 पर्सेंट तक प्रेग्नेंसी रोक पाने में कारगर साबित हुआ.