close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव: पहले चरण के दौरान असम में 65 प्रतिशत मतदान, कोलियाबोर से गौरव गोगोई भी मैदान में

ऊपरी असम की 5 लोक सभा सीटें जोरहाट, कोलियाबोर, डिब्रूगढ़, लखीमपुर और तेज़पुर में मतदान हुआ.

लोकसभा चुनाव: पहले चरण के दौरान असम में 65 प्रतिशत मतदान, कोलियाबोर से गौरव गोगोई भी मैदान में
देश की सबसे वृद्ध मतदाता ने असम लोकसभा चुनाव में मतदान किया. (फाइल फोटो)

गुवाहाटी: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के दौरान गुरुवार को असम में पहले चरण के दौरान 5 लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ. इस दौरान राज्य में मत-प्रतिशत 65% रहा. प्रथम चरण में यहां के 14 लोकसभा सीटों में से ऊपरी असम की 5 लोकसभा सीटें जोरहाट, कोलियाबोर, डिब्रूगढ़, लखीमपुर और तेज़पुर में मतदान हुआ.

कोलियाबोर से तरुण गोगोई के पुत्र गौरव की असम गण परिषद् से सीधी लड़ाई
कोलियाबोर से कांग्रेस के वर्त्तमान सांसद और असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के पुत्र गौरव गोगोई का सीधा मुकाबला असम गण परिषद् के मोनी माधव महंत से रहा हैं. इस सीट पर 18 प्रतिशत अल्पसंख्यक वोट है. लेकिन स्थानीय लोग वर्तमान सांसद गौरव गोगोई से नाराजगी की बात भी कह रहे हैं. वहीं, इस लोकसभा चुनाव के दौरान वोट के द्वारा अपनी नाराजगी जताने की बात भी कह रहे हैं. 

जोरहट में कांग्रेस और बीजेपी के बीच है मुकाबला
जोरहाट संसदीय क्षेत्र से से कांग्रेस ने युवा नेता शुशांता बरगोहाईं को चुनावी मैदान में उतारा है. वहीं, बीजेपी ने राज्य के सोनोवाल सरकार के में विद्युत् मंत्री तपन गोगोई उन्हें काफी टक्कर देते दिख रहे हैं. 

आहोमो का वोट है निर्णायक
जोरहाट संसदीय सीट आहोम जंगोष्ठी बहुल क्षेत्र है. आहोमो का मत जोरहाट संसदीय सीट पर निर्णायक होता है. इसलिए कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों पार्टियों ने आहोम प्रत्याशियों को यहां से खड़ा किया हैं. यहां गुरुवार को हो रहे मतदान के दौरान पूर्व सीएम तरुण गोगोई ने भी अपना मत डाला. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर जनता का भरोसा लौटने की बात भी दोहराई. 

डिब्रूगढ़ से कांग्रेस के दिग्गज पवन सिंह घटवार हैं मैदान में
यहां से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन सिंह घटवार चुनावी मैदान में हैं. जबकि बीजेपी ने सांसद रामेश्वर तेली पर फिर से भरोसा जताया है. माना जा रहा है कि दुबारा चुनाव लड़ रहे तेली को युवा नेता होने का फ़ायदा मिल सकता है. इसके अलावा दोनों प्रत्याशी चाय आदिवासी समाज से संबंध रखते हैं. जिसके कारण डिब्रूगढ़ सीट का चुनाव दिलचस्प हो गया हैं. मतदान के दौरान असम के मुख्यमंत्री सर्वानंदा सोनोवाल ने डिब्रूगढ़ में यहीं से अपना मत डाला. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर बीजेपी प्रत्याशी रामेश्वर तेली की जीत को पक्की बताया.

लखीमपुर सीट पर बीजेपी-कांग्रेस के बीच रहेगी जंग
लखीमपुर संसदीय सीट से बीजेपी ने वर्त्तमान के सांसद प्रदान बरुआ का मुकाबला कांग्रेस के नए नेता ओर प्रत्याशी अनिल बोढगोहाइ से है. लखीमपुर सीट जनजाति बहुल क्षेत्र है. माना जा रहा है कि जनतातियों का मत जिस तरफ जाएगा. जीत उसी प्रत्याशी की हो जाएगी. 

तेजपुर सीट से पल्लब लोचन दास हैं उम्मीदवार
तेज़पुर संसदीय सीट से असम सरकार के युवा राज्यिक मंत्री पल्लब लोचन दास बीजेपी के उम्मीदवार हैं. वहीं, कांग्रेस ने पूर्व आईएएस अधिकारी एमजीवीके भानु को मैदान में उतारा है. यहां पर नेपाली भाषी मतदाताओं की संख्या अधिक है. जिस कारण नेपाली भाषी मतदाताओं का मत निर्णायक माना जाता है. माना जा रहा है कि तेज़पुर के बीजेपी के सांसद राम प्रसाद शर्मा का टिकट कटने से नाराज नेपाली भाषी लोगो का मत कांग्रेस की ओर जा सकता है.

देश की सबसे वृद्ध मतदाता ने किया मतदान
जोरहाट में चुनाव आयोग के रिकॉर्ड अनुसार देश की सबसे वृद्ध मतदाता 104 वर्षीय लखि पॉल ने अपनी बेटी से सहयोग लेकर मतदान किया. इस दौरान उन्होंने देशवासियों से मतदान करने की अपील की. इसके अलावा चुनाव आयोग पर वृद्ध मतदाताओं को मतदान केंद्र पर लाने और ले जाने की सुविधा नहीं होने पर रोष भी जताया.

जानिए मत-प्रतिशत
राज्य चुनाव आयोग के अनुसार, असम के कोलियाबोर में कुल मतदान प्रतिशत 60% रिकॉर्ड की गई है. वहीं, जोरहाट संसदीय सीट पर 62% मतदान रिकॉर्ड हुआ है. जबकि, डिब्रूगढ़ संसदीय सीट पर 59.29% मतदान होने की सुचना मिली है. इसके अलावा लखीमपुर संसदीय सीट पर 53% मतदान हुआ है और तेज़पुर संसदीय सीट पर 63.01% मतदान होने जानकारी मिली है. असम में प्रथम चरण के 5 संसदीय सीटों पर कुल मिलाकर 65% मतदान होने के बारे में राज्य चुनाव आयोग ने जानकारी दी है.