महाराष्‍ट्र के बाद तमिलनाडु में बीजेपी का AIADMK से गठबंधन, 5 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

तम‍िलनाडु में बीजेपी 5 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. पुडुचेरी को मिलाकर इस राज्‍य में 40 सीटे हैं. अन्‍नाद्रमुक ने इससे पहले पीएमके के साथ गठबंधन का ऐलान करते हुए उसे 7 सीटें देने का ऐलान किया था. 

महाराष्‍ट्र के बाद तमिलनाडु में बीजेपी का AIADMK से गठबंधन, 5 सीटों पर लड़ेगी चुनाव
अन्‍नाद्रमुक के साथ गठबंधन का ऐलान केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने किया.

चेन्‍नई/नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी ने महाराष्‍ट्र के बाद एक और अहम राज्‍य तमि‍लनाडु में गठबंधन का ऐलान कर दिया है. उम्‍मीद के मुताबिक उसने एआईएडीएमके के साथ गठबंधन का ऐलान कर दिया. लोकसभा चुनावों में बीजेपी तमिलनाडु में 5 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. तमिलनाडु में पुडुचेरी को मिलाकर 39 सीटे हैं. अन्‍नाद्रमुक ने इससे पहले पीएमके के साथ गठबंधन का ऐलान करते हुए उसे 7 सीटें देने का ऐलान किया था. इससे पहले संभावना जताई जा रही थी कि दोनों पार्टी लोकसभा चुनावों के लिए गठबंधन का ऐलान कर सकती हैं.

मंगलवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, तमिलनाडु के सीएम पलानीसामी और उपमुख्‍यमंत्री ओ पन्‍नीरसेल्‍वम की मौजूदगी में गठबंधन का ऐलान किया गया. इससे पहले एक दिन पहले ही महाराष्‍ट्र में बीजेपी ने शिवसेना से अपने गठबंधन का ऐलान कर दिया था. महाराष्‍ट्र में बीजेपी 25 और श्‍ािवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

तम‍िलनाडु लोकसभा के लिहाज से काफी अहम राज्‍य है. यहां पर 39 में से बीजेपी के पास सि‍र्फ 1 सीट है. एक सीट उसके 2014 में सहयोगी रहे पीएमके के पास थी. बाकी की सारी सीटें अन्‍नाद्रमुक के पास थीं. तब जयलल‍िता के नेतृत्‍व में एआईएडीएमके ने 37 सीटें जीती थीं. पिछले चुनाव में अन्‍नाद्रमुक और द्रमुक के बाद बीजेपी को सबसे ज्‍यादा वोट मिले थे. उसने कन्‍याकुमारी सीट जीती थी, जब‍क‍ि कोएंबटूर सीट पर उसका उम्‍मीदवार दूसरे नंबर पर था.

लोकसभा चुनाव के लिए अन्नाद्रमुक-पीएमके में समझौता
इससे पहले सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने आगामी संसदीय चुनावों के लिए व्यापक आधार वाले मोर्चे को पेश करने की दिशा में पहला कदम उठाते हुए पट्टाली मक्कल कत्ची (पीएमके) के साथ राजनीतिक गठबंधन की मंगलवार को घोषणा की. मुख्यमंत्री के पलानीसामी की मौजूदगी में गठबंधन की घोषणा करते हुए अन्नाद्रमुक के समन्वयक एवं उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम ने कहा कि पीएमके लोकसभा की सात सीटों पर चुनाव लड़ेगी. पीएमके को राज्यसभा की भी एक सीट दिए जाने का निर्णय किया गया है. शहर के एक होटल में चुनावी गठबंधन के औपचारिक समझौते पर अन्नाद्रमुक एवं पीएमके के नेतृत्व के बीच हस्ताक्षर हुए.

पनीरसेल्वम ने बताया कि समझौते के तहत पीएमके तमिलनाडु में 21 विधानसभा क्षेत्रों में संभावित उपचुनाव में अन्नाद्रमुक का समर्थन करेगी. पीएमके के साथ यह समझौता होना अन्नाद्रमुक के लिए एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है. पीएमके के तमिलनाडु के कई उत्तरी एवं पश्चिमी क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण गुट हैं. अन्नाद्रमुक के बहुत जल्द भाजपा के साथ भी एक समझौते को औपचारिक रूप देने की संभावना है.

2014 के लोकसभा चुनावों में पीएमके भाजपा नीत गठबंधन का हिस्सा थी और उसने आठ सीटों पर चुनाव लड़ा था और धर्मपुरी सीट पर जीत हासिल की थी. विपक्षी मोर्चे में कांग्रेस मुख्य साझेदार है, उसमें सीटों के बंटवारे के संबंध में बातचीत अब भी जारी है.
पीएमके को गठबंधन में लाने का द्रमुक का प्रयास सफल नहीं हो पाया. पीएमके के संस्थापक नेता एस रामदास ने गठबंधन को ‘‘लोगों के कल्याण का गठबंधन, एक महा गठबंधन और एक विजयी गठबंधन’’ बताया.

उन्होंने कहा, ‘‘तमिलनाडु के लोगों के अधिकारों को फिर हासिल करने के लिए, हमने मांगों का 10-सूत्रीय चार्टर बनाया है.’ इन मांगों में कावेरी डेल्टा जिलों को संरक्षित कृषि क्षेत्र घोषित करना, तमिलनाडु में जातीय आधार पर जनगणना और राजीव गांधी हत्याकांड के सात आरोपियों की रिहाई शामिल है. उन्होंने कहा, ‘‘ यह गठबंधन तमिलनाडु और पुडुचेरी के सभी 40 निर्वाचन क्षेत्रों में जीत हासिल करेगा.’