होर्डिंग-पोस्टर में मायावती के बराबर फोटो नहीं लगा सकेंगे BSP नेता, फरमान जारी

ये निर्देश एमएलसी और नवनियुक्त मंडल-जोन इंचार्ज भीमराव अंबेडकर ने संगठन की लखनऊ मंडल की बैठक में दिए हैं. 

होर्डिंग-पोस्टर में मायावती के बराबर फोटो नहीं लगा सकेंगे BSP नेता, फरमान जारी
होर्डिंग या पोस्टर लगाने से पहले मंडल प्रभारियों से लेनी स्वीकृति होगी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/लखनऊ: लोकसभा चुनाव के तैयारियों में सभा पार्टियां जुट गई हैं. सड़कों पर जगह-जगह होर्डिंग और बैनर पटने शुरू हो गए हैं. इस बीच बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक नया फरमान जारी किया है. उन्होंने ये निर्देश दिए हैं कि कोई भी प्रत्याशी या नेता होर्डिंग या बैनर में पार्टी सुप्रीमो मायावती के बराबर फोटो नहीं लगा सकेगा. जानकारी के मुताबिक, ये निर्देश एमएलसी और नवनियुक्त मंडल-जोन इंचार्ज भीमराव अंबेडकर ने संगठन की लखनऊ मंडल की बैठक में दिए हैं. 

इतना ही नहीं होर्डिंग या पोस्टर लगाने से पहले मंडल प्रभारियों से लेनी स्वीकृति होगी. मंगलवार (05 मार्च) को इस बैठक में चुनाव से पहले लगने वाले होर्डिंग और बैनर्स के लिए ये लिए तैयार की गई गाइड लाइन्स के बारे में बताया गया. मायावती के निर्देश पर मंगलवार को इसी तरह की बैठक प्रदेश के सभी मंडलों में नवनियुक्त मंडल-जोन इंचार्जों की मौजूदगी में हुई.

दरअसल, पार्टी के पुराने नेताओं को तो बसपा की रीति-नीति, होर्डिंग व बैनर लगाने का तौर-तारीका पता है. लेकिन चुनाव के मौके पर तमाम जगह समर्थक व नवआगंतुक नेता अपने हिसाब से होर्डिंग में महापुरुषों और बसपा अध्यक्ष के बराबर या उनसे भी बड़ी अपनी फोटो लगा देते हैं. बसपा ने इसे गं+भीरता से लिया है और इसे अनुशासनहीनता की तरह माना है. 

 

इसके साथ ही बसपा की मंडलीय बैठकों में आठ से 13 मार्च के बीच जिला स्तरीय बैठकों के कार्यक्रम को भी मंजूरी दी गई है. जानकारी के मुताबिक, 8 मार्च को रायबरेली, 9 मार्च को उन्नाव, 10 मार्च को लखनऊ, लखीमपुरखीरी में 11 मार्च, सीतापुर में 12 मार्च और हरदोई में 13 मार्च को जिले की बैठक होंगी. जिला स्तरीय बैठकों में बसपा और सपा के विधानसभा स्तर से लेकर जिला स्तर तक के नेताओं को आमंत्रित कर गठबंधन को जिताने की रणनीति बनाने का फैसला हुआ.