close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नायडू ने तेज की गठबंधन की कवायद, राहुल और अखिलेश के बाद अब मायावती से मिले

अखिलेश य़ादव से मिलने के बाद वह बसपा सुप्रीमो मायावती से भी मुलाकात करेंगे. खबर है कि नायडू और अखिलेश ने बैठक के दौरान 23 मई को आने वाले चुनावी नतीजों के बाद केंद्र में महागठबंधन की सरकार की संभावना पर चर्चा की.

नायडू ने तेज की गठबंधन की कवायद, राहुल और अखिलेश के बाद अब मायावती से मिले
नायडू की टीडीपी पूर्व में बीजेपी नीत एनडीए का हिस्सा रही है और उसने कुछ महीने पहले गठबंधन छोड़ दिया था.

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के सातवें और अंतिम चरण के लिए 19 मई यानी कल मतदान होगा. वहीं, चुनावी नतीजे 23 मई को आएंगे. लेकिन इससे पहले ही विपक्षी राजनीतिक दलों ने महागठबंधन बनाने को लेकर कोशिशें तेज कर दी हैं. आखिरी चरण के मतदान से एक दिन पहले इस कड़ी में तेदेपा (टीडीपी) प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की. नायडू ने इससे पहले दिनभर में कई अन्य नेताओं से भी मुलाकात की. 

लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से नायडू सीधे विक्रमादित्य मार्ग स्थित सपा कार्यालय के लिए रवाना हुए .सपा कार्यालय पहुंचने पर अखिलेश ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया . इस दौरान बडी संख्या में सपा के वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे. अखिलेश ने इस मुलाकात के बारे में टवीट किया, 'सम्माननीय मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू का लखनऊ में स्वागत कर प्रसन्नता हुई.' 

सपा सूत्रों ने बताया कि भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों का मजबूत गठबंधन तैयार करने को लेकर दोनों नेताओं के बीच संभवत: चर्चा हुई है. अखिलेश ने बैठक के दौरान 23 मई को आने वाले चुनावी नतीजों के बाद केंद्र में महागठबंधन की सरकार की संभावना पर चर्चा की. सूत्रों के मानें तो, बैठक में यूपी में सपा-बसपा गठबंधन को लेकर भी चर्चा की गई. 

अखिलेश से मुलाकात के बाद नायडू सीधे मायावती के माल एवेन्यू आवास के लिए रवाना हुए, जहां बसपा सुप्रीमो ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया. दोनों नेताओं ने एक दूसरे का अभिवादन किया. नायडू ने मायावती को आंध्रप्रदेश के आम भेंट किये. मुलाकात के दौरान बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा भी मौजूद रहे .

 

 

इससे पहले नायडू ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और उनके साथ सभी विपक्षी दलों को एकजुट करने और एक संयुक्त विपक्षी गठबंधन बनाने की संभावनाओं पर चर्चा की. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सुबह के नाश्ते पर भाकपा नेता सुधाकर रेड्डी और डी राजा से भी मुलाकात की तथा उनसे ‘‘एक साथ आने’’ के लिए कहा. नायडू ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार और एलजेडी नेता शरद यादव से भी मुलाकात की. टीडीपी प्रमुख, तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी, AAP के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल और माकपा महासचिव सीताराम येचुरी समेत विभिन्न विपक्षी नेताओं से कई दौर की चर्चा कर चुके हैं.

सूत्रों ने बताया कि उनके शाम को लखनऊ में बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी मिलने की संभावना है. एक सूत्र ने बताया कि नायडू ने लगातार सभी नेताओं से कहा कि बीजेपी को बाहर रखकर अगली सरकार बनाने के लिए हमें एक साथ आना चाहिए और मिलकर काम चाहिए. सूत्रों ने बताया कि नायडू ने गांधी से यह भी कहा कि अगर बीजेपी को पर्याप्त सीटें नहीं मिलती हैं और फिर भी सरकार बनाने का दावा करती है तो ऐसी स्थिति में रणनीति तैयार रखनी चाहिए.

नायडू की टीडीपी पूर्व में बीजेपी नीत एनडीए का हिस्सा रही है और उसने कुछ महीने पहले गठबंधन छोड़ दिया था. नायडू ने शुक्रवार को कहा था कि न केवल तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) बल्कि भगवा पार्टी का विरोध करने वाले किसी भी दल का महागठबंधन में स्वागत है. विपक्षी दल अगली सरकार बनाने के लिए संयुक्त बीजेपी विरोधी मोर्चा बनाने पर जोर दे रहे हैं. लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई को घोषित होने के बाद विभिन्न विपक्ष दलों के बीच चर्चा तेज हो सकती है.

(इनपुट भाषा से भी)