close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फिल्मों में सहज नहीं था, वीकेंड पर अपने लोकसभा क्षेत्र में रहता हूं- चिराग पासवान

ज़ी बिहार झारखंड ने इलेक्शन कॉन्क्लेव का आयोजन किया. इलेक्शन कॉन्क्लेव में चिराग पासवान शामिल हुए. इस दौरान चिराग पासवान ने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी. 

फिल्मों में सहज नहीं था, वीकेंड पर अपने लोकसभा क्षेत्र में रहता हूं- चिराग पासवान
चिराग पासवान ने ज़ी कॉनक्लेव में कई मुद्दों पर बात की.

पटना: लोकसभा चुनाव में सभी दलों के मुख्य नेताओं को एक प्लेटफॉर्म देने के लिए ज़ी बिहार ने इलेक्शन कॉन्क्लेव का आयोजन किया. इलेक्शन कॉन्क्लेव में चिराग पासवान शामिल हुए. इस दौरान चिराग पासवान ने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी. 

अभिनेता बनना ज्यादा मुश्किल
अभिनेता से नेता बने चिराग पासवान ने फिल्मी करियर के बारे में बात की और कहा कि फिल्मों में उन्हें काफी असहज लगा. उन्होंने कहा, 'मेरी सात पुश्तों ने फिल्मों में काम नहीं किया है. किसी का फिल्मों से कुछ लेना देना नहीं है. राजनीति में मुझे सहजता महसूस की. बचपन से मैंने यही देखा है.

 

मैंने वादा पूरा किया
चिराग पासवान ने कहा है कि मैं निरंतर जनता के बीच बना रहा और उनके लिए काम किया. मेरे विश्वास को प्रणाम मिलता है जब नीति आयोग के आंकड़े कहते हैं कि देश भर के जितने भी जिले हैं उसमें टॉप पांच जिलों में जमुई का नाम आया. प्रचार में मुझे कहीं किसी ने मुझे नहीं कहा कि मैं जमुई में नहीं दिखता और संसद में मेरी उपस्थिति भी अच्छी है. 

बिहार का गौरव लौटाना चाहता हूं
राजनीति में बिहार की जगह पहले दिल्ली की राह चुनने के सवाल पर चिराग पासवान ने कहा कि मैं दिल्ली में रहा और मुंबई में काम किया. दूसरे राज्यों में जब मैं बिहार को लोगों को अपमानित होते देखता था तो मुझे लगता था कि बिहार से लोगों का पलायन नहीं होना चाहिए. मैं इस सोच के साथ राजनीति में नहीं आया कि मुझे राष्ट्रीय राजनीति में कोई भूमिका निभानी है. 

 

शिक्षा के लिए किया काम
चिराग पासवान ने यह भी कहा कि जमुई में शिक्षा के क्षेत्र में उन्होंने काम किया. उन्होंने कहा कि सासंद बनने के बाद जमुई को पहला केंद्रीय विद्यालय मिला. जमुई लोकसभा में एक मेडिकल कॉलेज खुलने वाला है. अभी बहुत सारे काम करने हैं. पांच साल में विकास के कार्य हुए हैं और अभी कई और काम करना है. 

तेजस्वी मेरा छोटा भाई
चिराग पासवान ने कहा कि महागठबंध के मुकाबले एनडीए अधिक मजबूत गठबंधन है. उन्होंने कहा कि हमारा एनडीए के गठबंधन में सहजता दिखती है. महागठबंधन में अभी भी सीटों पर रस्साकस्सी चल रही है. एक पार्टी के दो भाई सीटों पर लड़ रहे हैं. मेरा कोई तेजस्वी से कॉम्पिटिशन नहीं है. मैं सिर्फ चाहता हूं कि बात विकास की जाए. 

हां..परिवारवाद है
मैं ईमानदारी से कुबूल करता हूं कि राजनीति में परिवारवाद है. मेरे दोनों चाचाजी राजनीति में हैं. मैं इसे छिपा नहीं सकता हूं. परिवार से आने का लाभ मिलता है लेकिन चुनाव जीतना भी महत्वपूर्ण है. आपके अंदर वो काबिलियत होनी चाहिए. अगर आपके अंदर काबिलियत नहीं है तो परिवार की मदद से आप नहीं जीत सकती.