close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जमात-ए-इस्लामी ने किया सपा-बसपा गठबंधन के समर्थन का ऐलान

लोकसभा चुनाव 2019 में  जमात-ए-इस्लामी हिंद के दफ्तर में प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद नईम ने बयान जारी करते हुए कहा कि लोकसभा 2019 चुनाव में जनता को चाहिए कि वह अपने मत का भरपूर प्रयोग करके मौजूदा हुकूमत को हराने का काम करें.

जमात-ए-इस्लामी ने किया सपा-बसपा गठबंधन के समर्थन का ऐलान
Photo : PTI

अहमर हुसैन, लखनऊ: मुसलमानों के बड़े संगठन जमात-ए-इस्लामी हिंद ने उत्तर प्रदेश की सियासी गलियारों में सपा-बसपा के गठबंधन को वोट करने की अपील के साथ हलचल मचा दी है. लखनऊ के जमात-ए-इस्लामी हिंद के दफ्तर में प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद नईम ने बयान जारी करते हुए कहा कि लोकसभा 2019 चुनाव में जनता को चाहिए कि वह अपने मत का भरपूर प्रयोग करके मौजूदा हुकूमत को हराने का काम करें. इस दौरान मोहम्मद नईम ने साफ किया कि जमात-ए-इस्लामी हिंद ने ना सिर्फ मुसलमानों से बल्कि पूरे देश की आवाम से यह अपील की है.

जमात ए इस्लामी हिन्द के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद नईम का कहना है कि लोक सभा 2019 चुनाव काफी अहम है. आवाम को चाहिए कि वह अपने वोट का इस्तेमाल करें क्योंकि वर्तमान सरकार से जनता नाराज है. नोटबंदी जीएसटी बेरोजगारी महिलाओं पर अत्याचार की घटनाओं से देश की जनता परेशान है. इस सरकार में लॉ एंड ऑर्डर नाम की कोई चीज बाकी नहीं रह गई है. भीड़ द्वारा उत्पीड़न की घटनाओं ने देश में अफरा-तफरी का माहौल पैदा कर दिया है, जिससे यहां अमन शांति बाधित हुई है.

मोहम्मद नईम ने कहा कि इस सरकार ने जो भी वादे किए थे, उनमें से कोई भी वादा पूरा नहीं किया गया है. इसलिए जमात ए इस्लामी ने एक बड़ा फैसला लिया है कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा और आरएलडी गठबंधन को हम समर्थन करेंगे. जिन लोकसभा क्षेत्रों में गठबंधन का प्रत्याशी कमजोर होगा वहां पर हम कांग्रेस का समर्थन करेंगे. बाकी आवाम से भी समर्थन की अपील करेंगे.

गौरतलब है कि यूपी में 80 सीटों पर होने वाला चुनाव देश की सियासत में काफी अहमियत रखता है. ऐसे में मुसलमानों के बड़े संगठन जमात-ए-इस्लामी हिंद ने सपा बसपा गठबंधन को लेकर समर्थन का ऐलान किया है और देश की आवाम से सपा बसपा की गठबंधन को वोट देने की अपील की है. अब देखने वाली बात यह होगी कि जमात-ए-इस्लामी हिंद की अपील और समर्थन का आने वाले चुनाव के नतीजों पर क्या असर देखने को मिलता है.