close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इन फिल्मी हस्तियों ने चुनाव प्रचार में किए थे बड़े दावे, लोकसभा चुनाव परिणामों के बाद खामोश

लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी को कई फिल्मी हस्तियों ने चुनावों में बीजेपी को समर्थन दिया था, लेकिन कई हस्तियां ऐसी भी थीं, जिन्होंने इस बार के चुनाव प्रचार में जमकर बीजेपी की खबर ली. जावेद अख्तर, शबाना आजमी, स्वरा भास्कर, प्रकाश राज उन फिल्मी हस्तियों में से एक हैं, जिन्होंने पीएम मोदी की आलोचना की.  प्रकाश राज तो चुनाव भी लड़ रहे हैं. वह खुद चुनाव हार रहे हैं.

इन फिल्मी हस्तियों ने चुनाव प्रचार में किए थे बड़े दावे, लोकसभा चुनाव परिणामों के बाद खामोश

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के परिणामों बीजेपी भारी जीत की ओर बढ़ रही है. ये जीत 2014 से भी विशाल है. हालांकि जब चुनाव प्रचार शुरू हुआ था, उस समय ऐसा नहीं लग रहा था. यूं तो बीजेपी को कई फिल्मी हस्तियों ने चुनावों में बीजेपी को समर्थन दिया था, लेकिन कई हस्तियां ऐसी भी थीं, जिन्होंने इस बार के चुनाव प्रचार में जमकर बीजेपी की खबर ली. जावेद अख्तर, शबाना आजमी, स्वरा भास्कर, प्रकाश राज उन फिल्मी हस्तियों में से एक हैं, जिन्होंने पीएम मोदी की आलोचना की.  प्रकाश राज तो चुनाव भी लड़ रहे हैं. वह खुद चुनाव हार रहे हैं.

सबसे पहले बात जावेद अख्तर और शबाना आजमी की. इन दोनों हस्तियों ने बेगूसराय में जाकर बाकायदा सीपीआई के उम्मीदवार कन्हैया कुमार के समर्थन में प्रचार किया था. उसके अलावा ट्विटर पर भी ये सरकार के कान खींचते रहे. लेकिन चुनाव परिणाम सामने आने के बाद जावेद अख्तर ने कोई बड़ा बयान शाम तक  नहीं दिया. हालांकि बाद में शबाना आजमी ने इस जीत पर बीजेपी और पीएम मोदी को बधाई दी. बता दें कि पर्दा प्रथा पर अभी हाल में दिया गया जावेद अख्तर का बयान बहुत चर्चा में रहा था.

स्वरा भास्कर ने तो सरकार से खुलकर मोर्चा लिया. कन्हैया कुमार समेत वह विपक्ष के उम्मीदवारों के प्रचार में शामिल हुईं. दिल्ली में आम आदमी पार्टी के प्रचार में भी स्वरा भास्कर शामिल हुईं. कन्हैया कुमार के लिए उन्होंने प्रचार भी किया. चुनाव परिणाम आने के बाद स्वरा भास्कर को ट्रोल भी किया गया. उन्होंने चुनाव परिणाम पर तो कुछ नहीं बोला, हालांकि ट्रोलर्स को जवाब दिया.

प्रकाश राज कर्नाटक में निर्दलीय चुनाव लड़े. पिछले पांच साल में उन्होंने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. हालांकि वह निर्दलीय चुनाव हार गए. लेकिन उनके आलोचकों ने उन्हें ट्रेाल करना शुरू कर दिया. इसके बाद उन्होंने भी ट्रोलर्स को जवाब दिया.