close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस की कृष्णा पूनिया जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट पर देंगी बीजेपी को कड़ी टक्कर

कृष्णा पूनिया वर्तमान में चुरू जिले के राजगढ़ की विधायक हैं और अब वह जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही है.

कांग्रेस की कृष्णा पूनिया जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट पर देंगी बीजेपी को कड़ी टक्कर
कृष्णा पूनिया ने साल 2013 में राजनीति में कदम रखा था.

जयपुर: लोकसभा चुनाव 2019 के दंगल में राजस्थान की अहम सीटों में से एक मानी जाने वाली जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने ओलिम्पिक में तीन बार भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकीं कृष्णा पूनिया को उतारा है. वहीं इस सीट पर कृष्णा पूनिया के सामने होंगे बीजेपी के जयपुर ग्रामीण सीट से BJP सांसद राज्यवर्द्धन सिंह राठौर. कांग्रेस ने इस बार राज्यवर्द्धन सिंह राठौर के खिलाफ खिलाफ उन्हीं के खेल के मैदान से एक खिलाड़ी को उतार दिया है. 

कृष्णा पूनिया वर्तमान में चुरू जिले के राजगढ़ की विधायक हैं और अब वह जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही है. जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट में कुल 1946486 वोटर हैं. जयपुर ग्रामीण में फुलेरा, आमेर, कोटपूतली विराट नगर, झोटवाड़ा, बानसूर, जमा रामगढ़, शाहपुरा विधानसभा आती है, जिसमें से भाजपा ने केवल फुलेरा और आमिर विधानसभा में ही जीत दर्ज की थी.

कृष्णा पूनिया की बात करें तो वह मूलत: हरियाणा की निवासी है. कृष्णा पूनिया वह पहली ट्रैक एंड फील्ड महिला एथलीट बनीं जिसने साल 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण पदक जीता था. उन्होंने तीन ओलिम्पिक खेलों में भाग लिया, और उन्हें वर्ष 2011 में देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मश्री से सम्मानित किया गया था. कृष्णा पूनिया ने साल 2013 में राजनीति में कदम रखा था. 

बता दें कि कृष्णा पूनिया 2013 में भी चुनावी मैदान में आ चुकी थीं. उन्होने चूरू के सादुलपुर से विधानसभा चुनाव लड़ा था, मगर बहुजन समाज पार्टी के मनोज न्यांगली से चुनाव हार गई थी. हालांकि, 2018 विधानसभा चुनाव में कृष्णा पूनिया ने चुरू के सादुलपुर सीट से जीता है. वहीं इस बार कृष्णा पूनिया जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी है और उनका मानना है कि 'हमारी लड़ाई एथलीटों की लड़ाई नहीं है.' पुनिया के मुताबिक यह लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई है. युवाओं, किसानों तथा महिलाओं के मुद्दों को उठाने की ज़रूरत है, क्योंकि BJP ने अभी तक सिर्फ वादे ही किए है.