जॉर्ज फर्नांडिस के बाद मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर रहा निषाद परिवार का दबदबा

2014 के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो 1551363 मतदाताओं वाले मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर 61 प्रतिशत वोटिंग हुई थी.

जॉर्ज फर्नांडिस के बाद मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर रहा निषाद परिवार का दबदबा
मुजफ्फरपुर ने हाल ही में अपने दो पूर्व सांसदों को खो दिया.

मुजफ्फरपुर : हाल ही में बिहार के मुजफ्फरपुर के दो पूर्व सांसदों का निधन हुआ है. पहले कैप्टन जय नारायण प्रसाद निषाद और हाल ही में लंबी बीमारी के बाद जॉर्ज फर्नांडिस का देहांत हो गया. कद्दावर समाजवादी नेता जॉर्ज फर्नांडिस यहां से पांच बार सांसद रहे. उनके बाद इस सीट पर कैप्टन जय नारायाण प्रसाद निषाद का दबदबा रहा. वह यहां से चार बार सांसद बनने में सफल रहे थे वहीं, 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने उनके ही बेटे अजय निषाद को चुनाव मैदान में उतारा. वह लगभग  दो लाख से अधिक मतों से जीत दर्ज कर सांसद बने.

2014 के आंकड़ों पर अगर गौर करें तो 1551363 मतदाताओं वाले मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट पर 61 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. इस चुनाव में 948887 लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. यहां रिकॉर्ड 29 उम्मीदवार चुनाव में अपना किस्मत आजमा रहे थे.

इस चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और कांग्रेस पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रही थी. कांग्रेस ने यहां से अखिलेश प्रसाद सिंह को उम्मीदवार बनाया था. उन्हें 246873 वोट मिले थे. वहीं, बीजेपी कैंडिडेट अजय निषाद को 469282 वोट मिले. वह 222409 वोट से चुनाव जीतने में सफल रहे थे. वहीं, जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) नें विजेंद्र चौधरी को उम्मीदवार बनाया था, जिन्हें महज 85135 मत मिले थे. इस चुनाव में बीजेपी को लगभग 49.46 प्रतिशत वोट मिले थे.

1984 के बाद कांग्रेस को नहीं मिली है जीत
अगर मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट के इतिहास की बात करें तो यहां 1957 में पीएसपी के अशोक रंजीतराम मेहता चुनाव जीते थे. 1967, 1971 और 1984 में इस सीट पर कांग्रेस को सफलता मिली थी. 1967 में डीएन सिंह, 1971 में नवल किशोर सिन्हा और 1984 में एलपी शाही कांग्रेस की टिकट पर सांसद बने. इमरजेंसी के बाद पहली बार 1977 में जॉर्ज फर्नांडिस जनता पार्टी की टिकट पर जीत हासिल की थी. वह 1980 में भी चुनाव जीतने में सफल रहे थे.

जॉर्ज फर्नांडिस पांच बार यहां से सांसद बने
1989 और 1991 में हुए लोकसभा चुनाव में जनता दल की टिकट पर जॉर्ज फर्नांडिस मुजफ्फरपुर से सांसद बने. बाद में उन्होंने जनता दल से अलग राह अपनाते हुए समता पार्टी की स्थापना की थी. 1991 के बाद वर्ष 2004 में हुए लोकसभा चुनाव में जेडीयू की टिकट पर चुनाव लड़े और सांसद बने. 

कैप्टन निषाद ने चार बार जीत दर्ज की
जॉर्ज फर्नांडिस के बाद इस सीट पर जाय नारायण प्रसाद निषाद ने सबसे अधिक बार जीत दर्ज की. 1996 के लोकसभा चुनाव में जनता दल, 1998 में आरजेडी और 1999 व 2009 में जेडीयू की टिकट पर चुनाव लड़े और सांसद बने. 2014 में बीजेपी ने उनके बेटे अजय निषाद को चुनाव मैदान में उतारा और उन्होंने जीत दर्ज की.