close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव नतीजे 2019: इन 8 राज्यों में खिला 'केवल, केवल और केवल....कमल'

बीजेपी ने राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, यूपी और पश्चिम बंगाल तक में बेहतरीन प्रदर्शन किया है.

लोकसभा चुनाव नतीजे 2019: इन 8 राज्यों में खिला 'केवल, केवल और केवल....कमल'
अपनी प्रचंड जीत में भाजपा ने कम से कम 13 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में अपने मत प्रतिशत को 50 फीसदी से पार कर लिया है.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में 543 में 542 सीटों पर मतगणना के नतीजे (Lok Sabha Election Results 2019) शुक्रवार को कई राज्यों में साफ हो चुके हैं. 'प्रचंड मोदी लहर' पर सवार होकर बीजेपी ने एक बार फिर से बहुमत का आंकड़ा छू लिया. वहीं, 2019 के चुनावी नतीजों पर नजर डालें तो, बीजेपी की यह जीत 2014 के आंकड़ों से भी आगे है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्माई नेतृत्व के चलते लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha elections 2019) में एक बार फिर से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की सत्ता में वापसी हुई है.

543 लोकसभा सीटों में से बीजेपी को 302 सीटों पर जीत हासिल हुई है. इससे इतर बीजेपी ने पार्टी शासित प्रदेशों के साथ-साथ कांग्रेस और गैर कांग्रेस शासित राज्यों में भी अपना परचम लहराया है. बीजेपी ने राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, यूपी और पश्चिम बंगाल तक में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. इन सबके बीच सबसे बड़ी खबर ये है कि लोकसभा चुनावों में आठ राज्य ऐसे भी हैं, जहां बीजेपी ने सारी सीटों पर जीत हासिल की है. यह राज्य गुजरात, दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और त्रिपुरा हैं. आइए जानते हैं इन राज्य की कितनी सीटों पर बीजेपी ने हासिल की जीत...

 

राज्य  लोकसभा सीट
गुजरात 26
राजस्थान 25
हरियाणा 10
दिल्ली 7
उत्तराखंड 5
हिमाचल प्रदेश 4
अरुणाचल प्रदेश 2
त्रिपुरा 2

 

अपनी प्रचंड जीत में भाजपा ने कम से कम 13 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में अपने मत प्रतिशत को 50 फीसदी से पार कर लिया और उसकी प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस ने केवल एक प्रदेश पुडुचेरी में यह उपलब्धि हासिल की है. चुनाव आयोग के ताजा आंकड़ों के अनुसार इसके अलावा मुख्य विपक्षी पार्टी का मत प्रतिशत उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार और आंध्र प्रदेश जैसे राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्यों में केवल एक ही अंक में बना रहा.