close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आप प्रत्‍याशी पर गौतम गंभीर का पलटवार, 'जो 4.5 साल में कुछ नहीं कर पाए वो आरोप लगा रहे'

बता दें कि आप नेता आतिशी मार्लेना ने गौतम गंभीर पर दो से अधिक वोटर आईडी कार्ड रखने का आरोप लगाया है.

आप प्रत्‍याशी पर गौतम गंभीर का पलटवार, 'जो 4.5 साल में कुछ नहीं कर पाए वो आरोप लगा रहे'
गौतम गंभीर का पलटवार. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली : पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के उम्‍मीदवार और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने आम आदमी प्रत्‍याशी आतिशी मार्लेना की ओर से लगाए गए आरोपों पर रविवार को पलटवार किया है. गंभीर ने कहा कि जब आपके पास कोई विजन न हो और आपने पिछले 4.5 साल में कुछ भी न किया हो तो आप ऐसे आरोप लगाते हैं. आरोपों पर चुनाव आयोग फैसला करेगा. जब आपके पास कोई विजन होता है तो आप नकारात्‍मक राजनीति नहीं करते हैं.'

बता दें कि आप नेता आतिशी मार्लेना ने गौतम गंभीर पर दो से वोटर आईडी कार्ड रखने का आरोप लगाया है. उनकी ओर से कोर्ट में दाखिल की गई शिकायत में आरोप लगाया गया कि पूर्वी दिल्ली के भाजपा प्रत्याशी गंभीर ने दो अलग क्षेत्रों करोलबाग और राजेंद्र नगर में मतदाता के रूप में ‘‘जानबूझ कर’’ और ‘‘अवैध रूप से’’ नामांकन किया.

 

दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को कहा है कि वह आप नेता आतिशी मार्लेना की उस आपराधिक शिकायत पर एक मई को सुनवाई करेगी, जिसमें उन्होंने पूर्व क्रिकेटर और बीजेपी उम्मीदवार गौतम गंभीर पर जनप्रतिनिधित्व कानून का उल्लंघन करके एक से अधिक क्षेत्रों में मतदाता के रूप में कथित रूप से नामांकन करने का आरोप लगाया गया है.

शिकायत में पुलिस को इस मामले की जांच का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है. इस शिकायत को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विप्लव डबास के सामने विचार के लिए रखा गया है. यह याचिका गुरुवार को अधिवक्ता मोहम्मद इरशाद द्वारा दायर की गई. इसमें आरोप लगाया गया कि गंभीर ने चुनाव लड़ने की योग्यता हासिल करने और अंतत: संसद की सदस्यता लेने के लिए अपने नामांकन पत्र, इसके साथ सौंपे शपथपत्र और मतदाता होने से जुड़े अन्य दस्तावेजों में झूठी जानकारी दी है.

पूर्वी दिल्ली सीट से ही आप उम्मीदवार एवं शिकायतकर्ता आतिशी ने अपनी शिकायत में कहा कि क्षेत्रों में गंभीर के पंजीकरण की जानकारी चुनाव आयोग की राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल पर ऑनलाइन उपलब्ध है. शिकायत में दिल्ली पुलिस को जनप्रतिनिधित्व कानून, 1950 की धाराओं के तहत आरोपों की जांच का निर्देश देने का अनुरोध किया गया.
(इनपुट एजेेंसी से भी)