मंदसौर लोकसभा सीट: BJP के किले पर मजबूत हुई कांग्रेस की पकड़, कहीं बदल न जाए चुनावी समीकरण

बात करें कांग्रेस की तो जनता का कांग्रेस के प्रति यहां खास रुझान देखने को नहीं मिला, लेकिन बीते कुछ समय में जनता का झुकाव कांग्रेस की तरफ बढ़ता दिखाई दिया है. जिससे मंदसौर में भाजपा की मुश्किलें बढ़ती हुई दिख रही है.

मंदसौर लोकसभा सीट: BJP के किले पर मजबूत हुई कांग्रेस की पकड़, कहीं बदल न जाए चुनावी समीकरण
सुधीर गुप्ता (फोटो साभारः facebook)

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की मंदसौर लोकसभा सीट भारतीय जनता पार्टी का मजबूत गढ़ मानी जाती है. यहां की जनता ने हमेशा ही BJP का साथ दिया है. बात करें कांग्रेस की तो जनता का कांग्रेस के प्रति यहां खास रुझान देखने को नहीं मिला, लेकिन बीते कुछ समय में जनता का झुकाव कांग्रेस की तरफ बढ़ता दिखाई दिया है. जिससे मंदसौर में भाजपा की मुश्किलें बढ़ती हुई दिख रही है. बता दें मंदसौर लोकसभा सीट से सांसद रहे लक्ष्मीनारायण पांडे यहां से 8 बार सांसद रह चुके हैं. वहीं बात करें वर्तमान सांसद की तो सुधीर गुप्ता यहां के वर्तमान सांसद हैं. कांग्रेस को अंतिम बार 2009 में इस सीट पर जीत हासिल हुई थी, जिसमें कांग्रेस की दिग्गज नेता कही जाने वाली मीनाक्षी नटराजन यहां से जीत हासिल की थी.

राजनीतिक इतिहास
प्रदेश की इस सीट पर पहली बार 1957 में चुनाव हुए थे, जिसमें कांग्रेस के मानकलाल ने जीत हासिल की थी. इसके बाद जनसंघ को यहां जीत मिली और लगातार 1980 तक जनसंघ का ही यहां राज रहा. 1980 में कांग्रेस ने मंदसौर में वापसी की और 1984 में भी यह सिलसिला कायम रखा, लेकिन 1989 में भाजपा के लक्ष्मीनारायण पांडे के मंदसौर लोकसभा सीट पर जीत हासिल करने  बाद कांग्रेस की जीत का सिलसिला टूट गया और लक्ष्मीनारायण पांडे ने यहां लगातार 1989 से लेकर 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 तक अपने कदम जमाए रखे. 2009 में इस सीट से कांग्रेस की दिग्गज नेता मीनाक्षी नटराजन ने कांग्रेस के लंबे इंतजार को खत्म किया और यहां जीत हासिल की. लेकिन, फिर 2014 में यहां भाजपा ने वापसी की और सुधीर गुप्ता यहां से सांसद चुने गए.

26/11 के शहीद को लेकर साध्वी प्रज्ञा का विवादित बयान, दिग्विजय सिंह बोले...

2014 के चुनावी समीकरण
2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सुधीर गुप्ता को मंदसौर लोकसभा सीट से प्रत्याशी घोषित किया और सुधीर गुप्ता ने भी पार्टी की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए बड़े मतों के अंतर से जीत हासिल की. सुधीर गुप्ता ने नटराजन को यहां 3,03,649 वोटों के अंतर से हराया था. इस चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी सुधीर गुप्ता को 6,98,335 वोट मिले थे तो वहीं कांग्रेस प्रत्याशी मीनाक्षी नटराजन को 3,94,686 वोट ही मिल सके.

लोकसभा चुनाव 2019: अररिया में विरासत बचाने उतरे हैं RJD के सरफराज, प्रदीप सिंह पर BJP ने फिर जताया भरोसा

सांसद का रिपोर्ट कार्ड
सांसद सुधीर गुप्ता को उनके निर्वाचन क्षेत्र के विकास कार्यों के लिए 26 करोड़ आवंटित हुए. जिसका उन्होंने 94 फीसदी फंड खर्च कर दिया, जबकि 6 फीसदी फंड बिना खर्च किए रह गया. बता दें सुधीर गुप्ता को हाल ही में फेम इंडिया के सर्वे में देश के टॉप 25 सांसदों की लिस्ट में भी शामिल किया गया था.