मालदा दक्षिण लोकसभा सीट पर है त्रिकोणीय मुकाबला, क्या चल पाएगा TMC का 2014 वाला दांव?

इस बार इस सीट पर कांग्रेस ने यहां से मौजूदा सांसद अबू हसम खान चौधरी पर दांव लगाया है. वहीं, 2014 के परिणामों को देखते हुए तृणमूल कांग्रेस ने मोइज्जम हुसैन को मैदान में उतारा है. वहीं, समीकरण को भांपते हुए बीजेपी ने श्रीरुपा मित्र चौधरी को टिकट दिया है.

मालदा दक्षिण लोकसभा सीट पर है त्रिकोणीय मुकाबला, क्या चल पाएगा TMC का 2014 वाला दांव?
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: 2008 में अस्तित्व में आई मालदा दक्षिण लोकसभा सीट पर पहली बार 2009 के लोकसभा चुनावों में मतदान हुआ था. 2014 के चुनावों में इस सीट पर मुस्लिम प्रतिनिधि ने जीत दर्ज की. 2014 को इसलिए भी याद किया जाता है क्योंकि इस चुनाव में सबसे कम मुस्लिम उम्मीदवार लोकसभा चुनाव जीत सके थे. 

समीकरण को भांप उतारे गए उम्मीदवार
इस बार इस सीट पर कांग्रेस ने यहां से मौजूदा सांसद अबू हसम खान चौधरी पर दांव लगाया है. वहीं, 2014 के परिणामों को देखते हुए तृणमूल कांग्रेस ने मोइज्जम हुसैन को मैदान में उतारा है. वहीं, समीकरण को भांपते हुए बीजेपी ने श्रीरुपा मित्र चौधरी को टिकट दिया है.

पिछले लोक चुनाव के आंकड़े
सीट पर अभी मौजूदा सांसद- अबू हसेम खान चौधरी, कांग्रेस
जीत का अंतर- 1,63,511 वोट
दूसरे स्थान पर- विष्णु पद रॉय, बीजेपी
2014 में कुल मतदाता- 13,47,143
पुरुष वोटरों की संख्या- 6,92,386
महिला वोटरों की संख्या- 6,54,741