• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    346बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    92कांग्रेस+

  • अन्य

    104अन्य

मायावती के पूर्व सहयोगी का दावा, '23 मई के बाद BJP में शामिल हो जाएंगी बहनजी'

उन्होंने कहा कि बसपा के सहयोगी दल सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव व राष्ट्रीय लोकदल ने कभी भी यह स्पष्ट रूप से नहीं कहा कि वह मायावती के प्रधानमंत्री पद की दावेदारी का समर्थन करते हैं. 

मायावती के पूर्व सहयोगी का दावा, '23 मई के बाद BJP में शामिल हो जाएंगी बहनजी'
फाइल फोटो

बलिया: कांग्रेस नेता एवं उत्तर प्रदेश की बीएसपी सरकार में मंत्री रहे नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने बीएसपी में पुनः शामिल होने की संभावना से इंकार करते हुए बुधवार को दावा किया कि 23 मई के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती बीजेपी से मिल जायेंगी. कांग्रेस नेता सिद्दीकी ने यहां संवाददाताओं से बातचीत करते हुए बीएसपी सुप्रीमो मायावती के प्रधानमंत्री पद की दावेदारी को लेकर मीडिया में चल रही खबरों पर आश्चर्य प्रकट किया. उन्होंने कहा कि बीएसपी के सहयोगी दल एसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव व राष्ट्रीय लोकदल ने कभी भी यह स्पष्ट रूप से नहीं कहा कि वह मायावती के प्रधानमंत्री पद की दावेदारी का समर्थन करते हैं. 

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने सिर्फ यह कहा है कि अगला प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश से ही बनेगा, तब ऐसे में मायावती के प्रधानमंत्री बनने का सवाल ही कहां उठता है.

उन्होंने दावा किया कि 23 मई के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती बीजेपी से मिल जायेंगी. उन्होंने कहा कि मायावती पहले भी बीजेपी से मिल चुकी हैं तथा बीजेपी को अपना वोट ट्रांसफर करा चुकी हैं. मायावती पर इस तरह का दबाव बनेगा कि वह बीजेपी का हिस्सा बन जायेंगी. जब मायावती बीजेपी के साथ चली जायेंगी तो एसपी के सामने देश एवं प्रदेश हित में कांग्रेस के साथ आने के सिवाय कोई विकल्प नहीं रह जायेगा. 

यह भी पढ़ेंः मायावती का पलटवार, 'PM मोदी मुझसे ज्यादा दिन CM रहे, लेकिन उनकी विरासत में सांप्रदायिकता का धब्बा है'

सिद्दीकी ने कहा कि राजनीति में कुछ भी असम्भव नहीं होता. वे पिछले 33 वर्ष से मायावती को जानते हैं. जितना वह उनको जानते हैं, उतना मायावती भी स्वयं को नहीं जानती. वे आज भी मायावती का बहुत सम्मान करते हैं.

उन्होंने एक सवाल के जबाब में बीएसपी में पुनः शामिल होने की संभावना से इंकार किया. उन्होंने कहा कि वे कांग्रेस में हैं तथा मृत्यु के समय तक कांग्रेस में ही रहेंगे. उन्होंने दावा किया कि लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की सरकार बनेगी तथा राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनेंगे. देश के अधिकांश लोग मोदी को प्रधानमंत्री के रूप में नहीं देखना चाहते.