विपक्ष को डर है कि मोदी की वापसी से भ्रष्टाचार की 'दुकानें' बंद हो जाएंगी : PM मोदी

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि शांति की बात भी वही कर सकता है जिसकी भुजाओं में दम होता है.

विपक्ष को डर है कि मोदी की वापसी से भ्रष्टाचार की 'दुकानें' बंद हो जाएंगी : PM मोदी
भागलपुर रैली में पीएम मोदी के अलावा नीतीश कुमार और रामविलास पासवान भी मौजूद थे. (तस्वीर- PTI)

भागलपुर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कांग्रेस-नीत विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि 'महामिलावटी गैंग' को डर है कि सत्ता में मोदी की वापसी से भ्रष्टाचार और वंशवाद की 'दुकानें' बंद हो जाएंगी. बिहार के भागलपुर जिले में आयोजित रैली में संबोधन की शुरुआत करते हुए मोदी ने कहा कि आपने अपने इस प्रधानसेवक को बीते पांच साल जो सेवा का मौका दिया है, उसने नामुमकिन को भी मुमकिन बना दिया है.' 

विपक्ष की आलोचना करते हुए मोदी ने सवाल किया, 'नेताओं को अपने आंगन तक चकाचक सड़के पहुंचाते आपने देखा है? बिहार के गांव-गांव तक सड़के पहुंचाने का बीड़ा आपके इस चौकीदार ने उठाया है.' 

विपक्ष पर डरे होने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा, 'मोदी जब फिर आएगा तो इनकी भ्रष्टाचार की दुकानें पूरी तरह बंद हो जाएंगी. वंशवादी राजनीति के दिन लद जाएंगे. रक्षा सौदों की इनकी दलाली बंद हो जाएगी. गरीबों के नाम पर इनकी ठगी बंद हो जाएगी. टुकड़े-टुकड़े गैंग ही टुकड़े-टुकड़े होकर बिखर जाएगा.'

केन्द्र द्वारा विद्युतीकरण के क्षेत्र में किए गए कार्यों का जिक्र करते हुए उन्ऊोंने कहा, '70 साल तक आपने लाल बत्ती का रौब देखा, लेकिन गरीब के घर बत्ती जले इसकी चिंता पहले किसी ने नहीं की. एनडीए की सरकार ने बिहार में गरीब के घर बत्ती पहुंचाने का काम किया.' उन्होंने गरीबों के लिए पक्का मकान, रसोई गैस कनेक्शन और स्वास्थ्य बीमा के लिए अयुष्मान योजना का भी जिक्र किया.

उन्होंने कहा कि 23 मई के चुनाव नतीजे के बाद फिर एक बार मोदी सरकार बनेगी. देश के छोटे और सीमांत किसानों को 60 वर्ष की आयु के बाद नियमित पेंशन का हमारा संकल्प है. अब किसान को भी पेंशन मिलेगी.

'शांति की बात भी वही कर सकता है जिसकी भुजाओं में दम होता है'
एक बार फिर राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा उठाते हुए मोदी ने कहा कि सुरक्षा चाहे आपके हितों की हो, आपके सम्मान की हो या देश की सीमाओं की हो. ये सबसे जरूरी है. शांति की बात भी वही कर सकता है जिसकी भुजाओं में दम होता है.

मोदी ने सवाल किया, 'आपको पता है कि 2014 से पहले पाकिस्तान का रवैया क्या था? आतंकवादी भी पाकिस्तान भेजता था और फिर हमलों के बाद धमकियां भी वही देता था. कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार सिर्फ कागजी कार्रवाई में उलझकर रह जाती थी, क्या भारत को ऐसे ही रहना चाहिए?' 

आतंकवाद और आतंकवादी गतिविधियों के वित्त पोषण के मामले में चल रही कार्रवाई का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, 'हम जम्मू-कश्मीर में आतंक के ठिकानों का पता लगा लेंगे. पाकिस्तान से पैसा लेने वालों को जेल में डालेंगे. वहीं कांग्रेस और उसके साथी कह रहे हैं कि पाकिस्तान की भाषा बोलने वालों से आतंकवाद खत्म करने पर बात की जाएगी. दरअसल ये डरे हुए हैं और देश को डरा रहे हैं.'