close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : Exit Poll से एनडीए उत्साहित, आरजेडी बोली- 23 मई का करें इंतजार

राजनीतिक दलों ने उम्मीद के मुताबिक एग्जिट पोल पर प्रतिक्रिया दी है. जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू), बीजेपी और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने एग्जिट पोल का स्वागत किया है. वहीं, आरजेडी ने इसे मानने से इनकार कर दिया है.

बिहार : Exit Poll से एनडीए उत्साहित, आरजेडी बोली- 23 मई का करें इंतजार
एग्जिट पोल को लेकर राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया.

पटना : लोकसभा चुनाव के अंतिम दौर के मतदान के बाद एग्जिट पोल भी आ गए हैं. लगभग सभी एग्जिट पोल ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नेतृत्व में एनडीए की सरकार को बहुमत दिया है. बिहार में बीजेपी जहां एग्जिट पोल के नतीजों से उत्साहित है वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने इसे सिरे से खारिज कर दिया है.

राजनीतिक दलों ने उम्मीद के मुताबिक एग्जिट पोल पर प्रतिक्रिया दी है. जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू), बीजेपी और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने एग्जिट पोल का स्वागत किया है. वहीं, आरजेडी ने इसे मानने से इनकार कर दिया है.

लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोबारा शपथ लेंगे. माला वगैरह बनकर तैयार है. एग्जिट पोल में जितनी सीटें दिखाई गई हैं, उससे भी अधिक सीट नरेंद्र मोदी की अगुवाई में एनडीए जीतेगी. रामविलास पासवान ने कहा है कि पीएम मोदी ने पांच वर्षों में जो काम किए हैं, उस पर जनता ने मुहर लगा दी है.

बीजेपी के कोटे से बिहार में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने भी एग्जिट पोल पर खुशी जतायी है. मंगल पांडेय ने कहा है कि पीएम मोदी ने देश का नाम विदेशों में ऊंचा किया है. जनता उनके काम से खुश है. वहीं, जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि जनधन और उज्ज्वला योजना, स्वच्छता अभियान जैसी योजनाओं से देश की जनता खुश है.

आरजेडी एग्जिट पोल से खुश नहीं है. पार्टी के उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि, देश के साथ ही बिहार में भी महागठबंधन का प्रदर्शन बेहद बेहतर रहेगा. नरेंद्र मोदी दुबारा प्रधानमंत्री बनने नहीं जा रहे हैं. बिहार में भी बीजेपी गठबंधन पस्त पड़ जाएगा. हालांकि उन्होंने कहा है कि अब नतीजों का इंतजार करें.

एग्जिट पोल के जो नतीजे आने थे वो आ गए हैं. अब देश की जनता हस्तिनापुर की गद्दी किसे सौंपती है उसके लिए महज 72 घंटे का इंतजार काफी है. 23 मई को वोटों की गिनती है.