close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मतदाता जागरुकता की मिशाल बना पुणे का यह परिवार, 27 सदस्यों के साथ पहुंचा वोटिंग करने

परिवार में कुल 27 वोटर हैं और सभी मतदान को लेकर काफी उत्साहित दिखे. परिवार के सभी सदस्य सुबह से ही चुनाव में मतदान की तैयारी में जुट गए थे. 

मतदाता जागरुकता की मिशाल बना पुणे का यह परिवार, 27 सदस्यों के साथ पहुंचा वोटिंग करने
पूरे परिवार में मतदान को लेकर ऐसा उत्साह था मानो कि वे किसी पार्टी में जा रहे हों. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः देश में लोकसभा का चुनाव का माहौल है और हर कोई इसमें अपने अपने तरीके से हिस्सा ले रहा है. ऐसे मौके पर हमें कई तरह के अलग-अलग नजारे देखने को मिलते है. मंगलवार को पुणे में चुनाव के दौरान एक पोलिंग बूथ पर एक ऐसा दृश्य सामने आया जिसे आप मतदाता जागरूकता  की मिशाल कहेंगे. पुणे के एक पोलिंग बूध पर एक ही परिवार के 27 सदस्य एक साथ वोटिंग करने पहुंचे.

मोदी के खिलाफ टिप्पणी के लिए राहुल गांधी के खिलाफ शिकायत पर विशेष अदालत करेगी सुनवाई

मतदान को लेकर उत्साहित दिखा परिवार
आप को बता दें कि परिवार में कुल 27 वोटर हैं और सभी मतदान को लेकर काफी उत्साहित दिखे. परिवार के सभी सदस्य सुबह से ही चुनाव में मतदान की तैयारी में जुट गए थे. पूरे परिवार में मतदान को लेकर ऐसा उत्साह था मानो कि वे किसी पार्टी में जा रहे हों. यह सभी पुणे के कमला नेहरु विद्यालय में अपने अपने वोटींग कार्ड लेकर पहुंचे तो ऐसे लगा की मानो कोई जुलुस निकला हो. क्या बूढ़े क्या बच्चे और क्या नौजवान सभी में एक समान जोश देखने को मिला. 95 साल की दादी से लेकर 26 साल के पोते तक तीन पिढ़ियां वोटींग के लिए आई थी. यह एक विहंगम दृश्य था. बता दें कि यह भोसले जी का परिवार है और यह लोग पिछले 150 सालों से पुणे मे रह रहे हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने को लेकर पार्टी का फैसला मानूंगी : प्रियंका गांधी

95 साल की दादी भी पहुंची मतदान करने
दादी पार्वतीबाई भोसले की उम्र 95 साल है. उन्होनें अब तक हुए सभी चुनाव अपना मत दिया है. उनका पोता 26 साल का निरंजन अब तक दो बार वोटीं कर चुका है. आज मतदान करने आए भोसले परीवार मे दादी, उनके छह बेटेस, छह बहुये, 8 पोते और अन्य 6 भतिजा-भतिजी थे. कुल मिलाकर 27 लोग. दादी पार्वतीबाई तो व्हिलचेअर पर लाया गया था. उम्र होने के कारण वह चल नहीं सकती थी. जिसके कारण सभी परीवार दादी के साथ वोट करने पहुंचा. परीवार की मुखियाँ पार्वतीबाई भोसले ने कहाँ की परीवार के साथ आने से एक मेसेज देना चाहते है, ताकी सभी लोग वोट करने आए और देश को सही सरकार दें.