close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुषमा स्वराज ने बताया, इस मामले में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पिछड़ गई थी कांग्रेस सरकार

सुषमा स्वराज ने चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "वर्ष 2008 में मुंबई आतंकी हमले में मारे गए लोगों में 40 दूसरे 14 देशों के थे.

सुषमा स्वराज ने बताया, इस मामले में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पिछड़ गई थी कांग्रेस सरकार
सुषमा ने कहा एयर स्ट्राइक के बाद भारत ने वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग किया.

वाराणसी : केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एक बार फिर 2008 में मुंबई में हुए हमलों को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है. सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि साल 2008 में मुंबई में हुए हमले को कांग्रेस अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाकर पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर अलग-थलग कर सकती थी, लेकिन वह उसमें विफल रही.

वाराणसी में चुनावी सभा को संबोधित कर रहीं थीं सुषमा
सुषमा स्वराज ने यहां एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "वर्ष 2008 में मुंबई आतंकी हमले में मारे गए लोगों में 40 दूसरे 14 देशों के थे. तब कांग्रेस सरकार इसे अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाकर पाकिस्तान को वैश्विक स्तर पर अलग-थलग कर सकती थी, लेकिन वह सफल नहीं हुई."

सर्जिकल स्ट्राइक का किया जिक्र
उन्होंने कहा, "जबकि मोदी सरकार ने उरी व पुलवामा हमले का बदला सर्जिकल व एयर स्ट्राइक से लिया. वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग किया. अबूधाबी में ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक स्टेट के सम्मेलन में पाकिस्तान के विरोध के बावजूद भारत को बुलाया गया. मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित कराया गया."

सुषमा ने कहा, "वैश्विक स्तर पर पहली बार विदेश दौरों पर भारतीय लोगों की रैलियां हुईं, इसमें नरेंद्र मोदी उनसे मुखातिब हुए. इससे दूसरे देशों में हमारे लोगों व देश का मान बढ़ा. साथ ही अब भारतीय दूतावास वहां के लोगों के दोस्त के तौर पर काम करते हैं. पांच साल में महज एक ट्वीट पर विदेश मंत्रालय ने बाहर फंसे ढाई लाख लोगों को निकाल लाया."

भारत दुनिया की पांच सबसे चरमराती अर्थव्यवस्था
उन्होंने कहा, "2014 में भारत विश्व में पांच सबसे चरमराती अर्थव्यवस्था में से एक था. अब सबसे तेजी से बढ़ने वाली छठी अर्थव्यवस्था है. भारत 142वें से 77वें स्थान पर पहुंच गया है." विदेश मंत्री ने कहा, "भाजपा को प्रचंड बहुमत दिलाने में वाराणसी का बड़ा योगदान होगा. वाराणसी के लोग अपना सांसद नहीं, बल्कि एक प्रधानमंत्री चुन रहे हैं."

इनपुटः आईएएनएस