मॉक ड्रिल में फेल UP पुलिस, नहीं छोड़ पाए आंसू गैस के गोले, बताया ये बहाना...

मॉक ड्रिल में शामिल होने के लिए तकरीबन 100 पुलिस कर्मियों को बुलाया गया था. पुलिस के लिए मुश्किल उस वक्त खड़ी हो गई जब तमाम कोशिशों के बावजूद आंसू गैस का गोला दगा ही नहीं. इस मौके पर जिले के पुलिसकर्मियों के साथ कप्तान भी मौजूद थे. 

मॉक ड्रिल में फेल UP पुलिस, नहीं छोड़ पाए आंसू गैस के गोले, बताया ये बहाना...
वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

बलिया: यूपी पुलिस (UP Police) की बंदूकें अकसर वक्त पर धोखा दे जाती है. खास बात तो ये है कि ये सिर्फ राइफल के लिए लागू नहीं है. बल्कि अगर कहीं दंगा भी हो जाए तो यूपी पुलिस आंसू गैस (Tear Gas) के गोले छोड़ पाएगी या नहीं इस बात का भरोसा नहीं रह गया है. एनकाउंटर में मुंह से ठांय ठांय करके अपराधी को पकड़ा, फिर थाने में राइफल ने धोखा दिया अब ताजा मामला बलिया (Balia) से आया है, जहां दंगाईयों से निपटने के लिए यूपी पुलिस की मॉक ड्रिल चल रही थी, लेकिन पोलपट्टी खुल गई. 

बलिया में मंगलवार को यूपी पुलिस की मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया, जहां उन्हें दंगा नियंत्रण के टैक्ट सिखाए जा रहे थे. इसी बीच जब एक पुलिस कर्मी ने आंसू गैस के गोले दागने की एक्सरसाइज़ की तो बंदूक चली ही नहीं. 

 

 

मॉक ड्रिल में शामिल होने के लिए तकरीबन 100 पुलिस कर्मियों को बुलाया गया था. पुलिस के लिए मुश्किल उस वक्त खड़ी हो गई जब तमाम कोशिशों के बावजूद आंसू गैस का गोला दगा ही नहीं. इस मौके पर जिले के पुलिसकर्मियों के साथ कप्तान भी मौजूद थे. 

विडियो में दिख रहा है कि सबसे पहले एक पुलिस अधिकारी आंसू गैस का गोला दागने जाते हैं. उनके आस-पास तीन पुलिसकर्मी खड़े हैं. जब पुलिस अफसर आंसू गैस का गोला दागते हैं तो यह मिसफायर हो जाता है. इसके बाद फिर कोशिश की जाती है. एक नई कार्ट्रिज लोड करके पुलिस अधिकारी दोबारा आंसू गैस का गोला फायर करते हैं लेकिन एक बार फिर नतीजा वही रहा.

लाइव वीडीयो देखें

दूसरी बार नाकामी के बाद पुलिस अधिकारी थोड़ा पीछे जाते हैं और तीसरी कोशिश करते हैं. इस दौरान तमाम पुलिस कर्मी भी वहां मौजूद नजर आ रहे हैं. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस बारे में जब पुलिस से बात की तो उन्होंने बताया कि बारिश की वजह से नमी आने के कारण ये हुआ है.